भोपाल रेल्वे स्टेशन के प्लेट फॉर्म नंबर 6 पर 300 बिस्तर का कोविड केयर सेंटर शुरू

भोपाल रेल्वे स्टेशन के प्लेट फॉर्म नंबर 6 पर 300 बिस्तर का कोविड केयर सेंटर शुरू

सारंग ने कहा कि कोविड डेडिकटेड अस्पतालों पर कोविड मरीजों के भर्ती होने का दबाव कम होगा। उन्होंने कहा कि ऐसे एसिम्टोमैटिक मरीज तथा बिना लक्षण वाले मरीजों को भी यहाँ संपूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाएगी।

भोपाल। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने आज भोपाल रेल्वे स्टेशन के प्लेट फॉर्म नंबर 6 पर 20 आइसोलेशन कोच में बनाये गए लगभग 300 बिस्तर वाले कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया। रेल मंडल द्वारा तैयार किये कोविड केयर सेंटर को आज से शुरू किया गया है। तैयार किये गए आइसोलेशन कोच में  एसिम्टोमैटिक कोविड मरीज़ों को रखा जाएगा। ऐसे मरीज जिनके घरों में बुजुर्ग, गर्भवती महिला, बच्चे होने पर परेशानी हो रही है। साथ ही ऐसे पॉजिटिव मरीज जो होम आइसोलेशन में रह रहें हैं लेकिन उनके घरों में जगह नहीं है और उनको आवश्यकता है कि वह डॉक्टर की निगरानी में रखें जायें। ऐसे मरीज इस सेंटर में आकर अपना बेहतर तरीके से इलाज करा सकते हैं और आइसोलेशन में रह सकते हैं।

 

इसे भी पढ़ें: ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की कालाबाजारी को रोकने के लिए बनेगी टास्क फोर्स: डॉ. मिश्रा

चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग ने निरीक्षण के दौरान बताया कि इस सेंटर पर प्रतिदिन मनोचिकित्सक भी निरीक्षण करेंगे और लोगों को बेहतर तरीके से इस बीमारी से सामना करने के संबंध में बताएंगे। इसके साथ ही यहाँ पर प्रतिदिन डॉक्टरों की टीम अपने आधुनिक संसाधनों के साथ 24x7 उपस्थित रहेंगी। रेल मंडल की सराहनीय पहल द्वारा यह सेंटर शुरू किया गया है। इनमें 300 बिस्तर संपूर्ण वेंटिलेशन के साथ तैयार किये गए हैं, जिनमें 300 लोगों को रखा जा सकेगा। सभी कोच  में बेहतर व्यवस्थाएँ, खुली हवा आने के लिए भी पर्याप्त व्यवस्थाएँ की गई हैं। यहाँ प्रतिदिन योगा कराने, स्वास्थ्य वर्धक खाना, दवाइयाँ और डॉक्टरों की टीम विजिट करेगी। 

 

इसे भी पढ़ें: रतलाम रेल मंडल ने कोरोना संक्रमितों की सुविधा के लिए जारी किया व्हाट्सएप नम्बर

चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग ने बताया कि प्रत्येक जिले में एसिम्टोमैटिक मरीजों के लिए कोविड सेंटर चालू कर दिए गए हैं। ऐसे मरीजों में जो बिना लक्षण के भी पॉजिटिव पाए जाते हैं उन सभी लोगों के लिए एक बेहतर इंतजाम होगा। इसके साथ ही डॉक्टरों की टीम लगातार निगरानी भी करती रहेगी और यदि किसी मरीज की स्थिति थोड़ी भी बिगड़ती है तो उन्हें तुरंत ही डेडीकेटेड कोविड हॉस्पिटल में एडमिट कराया जाएगा। निरंतर इनका ऑक्सीजन लेवल भी चेक किया जाएगा और आवश्यकता होने पर उनको तुरंत विशेष उपचार भी दिए जाने की सुविधा इन सेंटरों में रखी गई है। सारंग ने कहा कि कोविड डेडिकटेड अस्पतालों पर कोविड मरीजों के भर्ती होने का दबाव कम होगा। उन्होंने कहा कि ऐसे एसिम्टोमैटिक मरीज तथा बिना लक्षण वाले मरीजों को भी यहाँ संपूर्ण स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराई जाएगी। सारंग ने कहा कि बेहतर उपचार और स्वास्थ्य सुविधा प्रदेश की जनता को उपलब्ध कराना हमारी प्राथमिकता है और इस दिशा में सतत् कार्य तथा निगरानी की जा रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।