बंगाल विधानसभा में हाथापाई, शुभेंदु अधिकारी समेत भाजपा के 5 विधायक सस्पेंड, टीएमसी विधायक अस्पताल में हुए भर्ती

बंगाल विधानसभा में हाथापाई, शुभेंदु अधिकारी समेत भाजपा के 5 विधायक सस्पेंड, टीएमसी विधायक अस्पताल में हुए भर्ती
प्रतिरूप फोटो

पश्चिम बंगाल विधानसभा के भीतर भाजपा विधायक मनोज तिग्गा और टीएमसी विधायक असित मजूमदार के साथ कथित तौर पर मारपीट की गई। इस दौरान असित मजूमदार चोटिल हो गए, जिन्हें अस्पताल ले जाया गया है। जिसके बाद शुभेंदु अधिकारी समेत 5 भाजपा विधायकों को अगले आदेश तक के लिए सस्पेंड कर दिया गया।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा में सोमवार को वीरभूम मामले को लेकर तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायकों के बीच हाथापाई हो गई। जिसके बाद नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी समेत भाजपा के 5 विधायकों को अगले आदेश तक के लिए सस्पेंड कर दिया गया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भाजपा विधायक मनोज तिग्गा के साथ कथित तौर पर मारपीट की गई। इसके साथ ही टीएमसी विधायक असित मजूमदार ने चोटिल होने का दावा किया।

इसे भी पढ़ें: Bharat Bandh | राष्ट्रव्यापी हड़ताल से चेन्नई-पश्चिम बंगाल में सार्वजनिक परिवहन प्रभावित, आम लोग परेशान 

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा के भीतर भाजपा विधायक मनोज तिग्गा और टीएमसी विधायक असित मजूमदार के साथ कथित तौर पर मारपीट की गई। इस दौरान असित मजूमदार चोटिल हो गए, जिन्हें अस्पताल ले जाया गया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बीरभूम हिंसा मामले को लेकर सदन के पटल पर टीएमसी और भाजपा विधायकों के बीच झड़प के बाद शुभेंदु अधिकारी समेत 5 भाजपा विधायकों को अगले आदेश तक के लिए सस्पेंड कर दिया गया। सस्पेंड हुए विधायकों में शुभेंदु अधिकारी, मनोज तिग्गा, नराहरी महतो, शंकर घोष, दीपक बरमन शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: बीरभूम हिंसा पर एक्शन में CBI, केंद्रीय जांच ब्यूरो की फोरेंसिक टीम पहुंची रामपुरहाट गांव 

शुभेंदु अधिकारी ने बताया कि विपक्ष ने अंतिम दिन कानून-व्यवस्था पर चर्चा की मांग की लेकिन सरकार ने मना कर दिया। वे हमारे 8-10 विधायकों के साथ संघर्ष करने के लिए कोलकाता पुलिसकर्मियों को सिविल ड्रेस में लाए। उन्होंने कहा कि अनारुल हुसैन द्वारा बनाई गई रामपुरहाट की घटना की वही स्थिति टीएमसी विधायकों और उनकी पुलिस ने अंदर देखी। हम आज दोपहर 2 बजे इसके खिलाफ मार्च करेंगे। नियमानुसार कार्रवाई की मांग करते हुए मैं अपनी शिकायत अध्यक्ष को लिखूंगा। हमें केंद्र के हस्तक्षेप की जरूरत है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...