अयोध्या में दीपोत्सव! सीएम योगी का ऐलान- 7.50 लाख दीप जलाकर बनाया जाएगा विश्व रिकॉर्ड

अयोध्या में दीपोत्सव! सीएम योगी का ऐलान- 7.50 लाख दीप जलाकर बनाया जाएगा विश्व रिकॉर्ड

अयोध्या में ओबीसी वर्ग कार्यसमिति की बैठक के दौरान सीएम योगी ने कहा अयोध्या के कुम्हार तैयार करेंगे दीपोत्सव में जलने वाले दिये

अयोध्या. राम नगरी अयोध्या में दीपोत्सव इस बार सबसे खास होने जा रही है। इस बार भी 7.50 लाख अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ते हुए विश्व रिकॉर्ड बनाएगी। वहीं उत्तर प्रदेश सरकार के साढ़े 4 वर्ष पूरा होने का जश्न भी होगा। जिसमें लाखों लोग शामिल हो सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में दलित की पिटाई से हुई मौत, आरोपी फरार

उत्तर प्रदेश सरकार के साढ़े 4 वर्ष पूरा होने पर अयोध्या पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस बार के दीपोत्सव में 7.50 लाख दीप जलाए और लगने वाले सभी दीप अयोध्या के कुम्हार तैयार करेंगे। दरसल अयोध्या में चल रहे दो दिवसीय ओबीसी वर्ग मोर्चा की कार्यसमिति की बैठक के समापन करने पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश सरकार की उपलब्धियों को बताते हुए कहा कि अयोध्या में भगवान श्री राम के 14 वर्ष के बाद भगवान श्री राम के वापस लौटने पर अयोध्या में दीपावली मनाई जाती है। लेकिन 2017 कि पहले अयोध्या की दीपावली सिर्फ किताबों के पन्नो में ही इसका महत्व रहा।लेकिन भाजपा की सरकार आने के बाद अयोध्या के दीपावली को लेकर साधु संतों से राय लिया गया और इस दीपावली को ऐतिहासिक पर्व के रूप में मनाए जाने का कार्य प्रारंभ किया। और आज पुरे विश्व में अयोध्या के दीपोत्सव जाना जाता है। जिसमे शामिल होने के लिए लाखों लोग अयोध्या पहुंचते हैं।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में ड्रोन कैमरा मिलने के बाद मचा हड़कंप, अज्ञात के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

वही अयोध्या में होने वाले दीपोत्सव में 7:50 लाख दीप जलाए जाने को लेकर अयोध्या के कुम्हारों के द्वारा बनाए जाने का एलान किये जाने के बाद कुमारों ने तैयारी शुरू कर दी है टुमारो के मुताबिक प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार आने के बाद मिट्टी के बने जियो और बर्तनों का महत्व बढ़ा है दीपावली में बड़ी संख्या में लोग दियों की मांग कर रहे हैं। तो वहीं मिट्टी भी सही दामों में मिलने लगा है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।