मम्मी फांसी लगा रही है जल्दी आओ! 8 साल के बच्चे की बात सुन 9 मिनट में घर पहुंची पुलिस; बचाई जान

मम्मी फांसी लगा रही है जल्दी आओ! 8 साल के बच्चे की बात सुन 9 मिनट में घर पहुंची पुलिस; बचाई जान

एसआई शमशेर सिंह, एचसी विनोद कुमार व एसपीओ जोरा सिंह को 112 नंबर पर कॉल आई और बताया कि, डिफेंस कॉलोनी कैथल में एपने घर में एक महिला फांसी लगाने के लिए फंदा तैयार कर रही है और जिसकी सूचना मिलते ही ट्रैफिक जाम से निकलते हुए पुलिस की टीम महज 9 मिनट में महिला के पास पहुंची।

हरियाणा के कैथल में एक वाक्या हुआ था जिसके लिए हरियाणा पुलिस को काफी सम्मान दिया गया है। बता दें कि, एक 8 साल के बच्चे ने 112 पर कॉल करके पुलिस को बताया कि उसकी मां फांसी लगाने जा रही है। यह खबर सुनने के बाद पुलिस ने तुरंते एक्शन लिया था और महज 9 मिनट में बच्चे के घर पहुंचकर महिला की जान बचाई थी। इसके लिए पुलिस कप्तान मकसूद अहमद ने पुलिस कर्मचारियों को सम्मानित भी किया है। यह मामला 24 मार्च का है जब  एसआई शमशेर सिंह, एचसी विनोद कुमार व एसपीओ जोरा सिंह को 112 नंबर पर कॉल आई और बताया कि, डिफेंस कॉलोनी कैथल में एपने घर में एक महिला फांसी लगाने के लिए फंदा तैयार कर रही है और जिसकी सूचना मिलते ही ट्रैफिक जाम से निकलते हुए पुलिस की टीम महज 9 मिनट में महिला के पास पहुंचकर उससे बातचीत की और समझा कर उसकी जान बचाई।

इसे भी पढ़ें: राजधानी में हो सकता है ब्लैकआउट, 700 मेगावाट बिजली केंद्र ने दिल्ली से हरियाणा किया डायवर्ट

आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन महिला के अन्य परिजन भी इतनी जल्दी महिला के पास नहीं पहुचें जितनी जल्दी पुलिस की टीम पहुंची। पुलिस का धन्यवाद करते हुए 112 प्रोजेक्ट की काफी तारीफ भी की गई। महिला की जान बचाकर हरियाणा पुलिस ने साबित किया कि वह तुरंत एक्शन लेने वालों में से एक है और कई और प्रदेश के पुलिस वालों के लिए हरियाणा पुलिस ने एक उदाहरण भी पेश किया है। बता दें कि, इस श्रेष्ठ काम के लिए पुलिस कर्मचारियों को नकद इनाम और प्रशंसा पत्र  देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर एसपी ने कहा कि, इस बेहतरीन काम के लिए अन्य पुलिस कर्माचरियों को भी प्रेरणा लेना चाहिए और ईमानदारी से ड्युटी करने वाले कर्माचारियों को भी इसी तरह से सम्मानित किया जाता रहेगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।