90 साल की दादी हाईवे पर दौड़ाती हैं फर्राटे से कार, वीडियो हुआ वायरल

90 साल की दादी हाईवे पर दौड़ाती हैं फर्राटे से कार, वीडियो हुआ वायरल

रेशम बाई एंड्रॉइड फोन चलाने के साथ गाय को चराती है। जानकारी के मुताबिक वह 10 साल पहले ट्रैक्टर भी चला चुकी हैं। इस उम्र में भी वह अपना सारा काम खुद ही करती हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश के देवास जिले में 90 साल की रेशम बाई इस तरह कार चलाई हैं कि जैसे कोई अनुभवी ड्राइवर गाड़ी चलाता है। उन्होंने अपनी पोती को कार चलाते देख 3 माह में ड्राइविंग सीख ली। ऐसा देखा जाता है कि वाहन दौड़ाते हुए दिखाई देते हैं। ऐसे में दादी की ड्राइविंग देखने लायक है।

इसे भी पढ़ें:MP की सड़क पर घूमते आवारा जानवरों को लेकर 7 कलेक्टर, 2 आयुक्त समेत 30 अफसरों को हाईकोर्ट ने दिया नोटिस 

दरअसल रेशम बाई एंड्रॉइड फोन चलाने के साथ गाय को चराती है। जानकारी के मुताबिक वह 10 साल पहले ट्रैक्टर भी चला चुकी हैं। इस उम्र में भी वह अपना सारा काम खुद ही करती हैं। उनके 4 बेटे और 2 बेटियां हैं। सभी विवाहित हैं। रेशम बाई दादी, नानी, मां और सास का दायित्व निभा रही हैं।

आपको बता दें कि पोती को कार चलाते देख रेशम बाई ने भी बेटों से कार चलाने की मंशा जाहिर की। कहा- मुझे कार भी चलाना है। बड़े बेटे ने बताया कि मां को कई बार समझाया कि कार मत चलाओ, लेकिन जब वह नहीं मानीं। तो छोटे बेटे ने उन्हें ड्राइविंग सिखाई। बेटे ने ये भी कहा कि परिवार के बाकी लोगों को मोबाइल चलाते देख मां को भी टच स्क्रीन मोबाइल चलाने की इच्छा हुई इसलिए उन्हें एंड्रॉइड मोबाइल भी दिलवाया गया।

इसे भी पढ़ें:किसान आंदोलन को लेकर बोले केंद्रीय मंत्री, कहा - जो आंदोलन पर बैठे है, वे बता दे कि खत्म कब करेंगे 

बेटे ने आगे बताया कि मां सिर्फ पिछले 10-15 दिन से कार चला रही हैं। वह जब कार चलाती हैं, तो उनके साथ छोटा बेटा रहता है। परिवार में चारों बहुओं, चारों बेटों और पोते-पोतियों को ड्राइविंग आती है। दादी की लगन और ड्राइविंग का प्यार देख परिजनों ने उनके ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन कर दिया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।