कोरोना के हालात को लेकर आप विधायक की अपील, दिल्ली में लगाया जाए राष्ट्रपति शासन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2021   14:40
कोरोना के हालात को लेकर आप विधायक की अपील, दिल्ली में लगाया जाए राष्ट्रपति शासन

आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक शोएब इकबाल ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण की भयवाह स्थिति को देखते हुए यहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए। पुरानी दिल्ली के मटिया महल विधानसभा क्षेत्र से छठी बार विधायक चुने गए इकबाल ने कहा कि न तो वह और न ही सरकार कोरोना से प्रभावित लोगों की कोई मदद कर पा रही हैं।

नयी दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक शोएब इकबाल ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण की भयवाह स्थिति को देखते हुए यहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए। पुरानी दिल्ली के मटिया महल विधानसभा क्षेत्र से छठी बार विधायक चुने गए इकबाल ने कहा कि न तो वह और न ही सरकार कोरोना से प्रभावित लोगों की कोई मदद कर पा रही हैं। उनकी मांग पर आप की तरफ से फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

इसे भी पढ़ें: कोरोना के उपचार में मददगार साबित हो रहा ‘आयुष 64‘ फार्मूला: आयुर्वेद मंत्री

इकबाल ने एक वीडियो संदेश में कहा, ‘‘एक विधायक होने के नाते मुझे शर्मिंदगी महसूस होती है क्योंकि मैं किसी के काम नहीं आ पा रहा हूं और हमारी सरकार भी लोगों के साथ खड़ी नहीं हो पा रही है। छह बार का विधायक होने के बावजूद मुझे कोई नहीं सुन रहा है और मैं किसी से संपर्क नहीं कर पा रहा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली के हालात बहुत खराब हैं। मैं दिल्ली उच्च न्यायालय से आग्रह करता हूं कि दिल्ली में तत्काल राष्ट्रपति शासन लगाया जाए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो पूरे शहर में लाशें बिछ जाएंगी।’’

इसे भी पढ़ें: भारत में कोरोना वायरस के नए मामलों में से 73 प्रतिशत मामले 10 राज्यों में सामने आए

आप विधायक ने कहा, ‘‘मुझे रोना आता है। मुझे नींद नहीं आ रही है। लोग परेशान हैं, लोगों को ऑक्सीजन और दवाएं नहीं मिल पा रही हैं। मैं एक दोस्त की मदद नहीं कर पा रहा हूं जो बिना ऑक्सीजन और दवा के अस्पताल में है।’’ उल्लेखनीय है कि इकबाल ने 2020 के विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ आप के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।