• विपक्षी एकजुटता को मजबूत करेंगी ममता ! दिल्ली दौरे से पहले ट्विटर पर ट्रेंड हुआ 'अबकी बार दीदी सरकार'

तृणमूल कांग्रेस ने सांसद नहीं होने के बावजूद ममता बनर्जी को संसदीय दल का नेता चुना है। इसके तुरंत बाद ही वह दिल्ली दौरे पर आ रही हैं। राजनीतिक गलियारों पर चर्चा है कि अगर विपक्षी दल के सभी नेता दिल्ली में मौजूद रहे तो ममता बनर्जी 28 जुलाई को उनसे चाय पर मुलाकात कर सकती हैं।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 'मिशन 2024' को भुनाने के लिए राजनीतिक दलों को एकजुट करने के प्रयासों में जुटी हुई हैं। इसी क्रम में सोमवार को ममता दीदी दिल्ली दौरे पर हैं। लेकिन उससे पहले ही सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर #BengalModel और #AbkiBaarDidiSarkar ट्रेंड करने लगे। 

इसे भी पढ़ें: पेगासस जासूसी विवाद के लिए ममता बनर्जी सरकार ने जांच पैनल गठित किया 

ममता बनर्जी के दिल्ली दौरे से पहले दोनों हैशटैग काफी ट्रेंड कर रहे थे। हाल ही में कांग्रेस से तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी ने दोनों हैशटैग के साथ एक पोस्टर साझा किया। जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ममता बनर्जी की तस्वीर है। इस पोस्टर में भाजपा का बहुचर्चित स्लोगन 'बहुत हुई जनता पर पेट्रोल-डीजल की मार, अबकी बार मोदी सरकार' कटा हुआ है। जबकि ममता बनर्जी वाली तस्वीर में लिखा है- 'अबकी बार दीदी सरकार' । पोस्टर के नीचे तरफ लिखा हुआ है कि नहीं चाहिए फेकू सरकार। इसके साथ ही दोनों हैशटैग का भी इस्तेमाल किया गया है।

अभिजीत मुखर्जी के अलावा पानीहाटी से तृणमूल कांग्रेस विधायक निर्मल घोष ने भी बंगाल मॉडल हैशटैग के साथ ट्वीट किया।

विपक्षी एकजुटता को करेंगी मजबूत

प्राप्त जानकारी के मुताबिक ममता बनर्जी सोमवार शाम नई दिल्ली के लिए रवाना होने वाली हैं और 29 जुलाई तक वहां रहेंगी। उनके 28 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का कार्यक्रम है। वह अपनी यात्रा के दौरान कई विपक्षी नेताओं से भी मिल सकती हैं। बता दें कि बंगाल में भाजपा के 200 प्लस के दावे के खोखले साबित होने के बाद ममत बनर्जी ने राष्ट्रीय राजनीति का नेतृत्व करने का मन बना लिया है। लेकिन क्या वह लोकसभा चुनाव 2024 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ विपक्ष का चेहरा होंगी ? यह सवाल काफी अहम है। 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी धन की ‘भीख’ मांगने के लिए प्रधानमंत्री से मिलना चाहती हैं: दिलीप घोष 

गौरतलब है कि तृणमूल कांग्रेस ने सांसद नहीं होने के बावजूद ममता बनर्जी को संसदीय दल का नेता चुना है। इसके तुरंत बाद ही वह दिल्ली दौरे पर आ रही हैं। राजनीतिक गलियारों पर चर्चा है कि अगर विपक्षी दल के सभी नेता दिल्ली में मौजूद रहे तो ममता बनर्जी 28 जुलाई को उनसे चाय पर मुलाकात कर सकती हैं। यह बैठक उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी के आवास पर होने की संभावना है।

माना जा रहा है कि भाजपा के खिलाफ बटे हुए विपक्ष को ममता बनर्जी चाय पर मुलाकात के जरिए एकजुट करने का प्रयास करेंगी। चर्चा तो उनके कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के साथ मुलाकात की भी है। लेकिन अभी तक तारीख और मिलने का समय तय नहीं हो पाया है।