ममता के निमंत्रण के बाद स्वप्न दासगुप्ता ने बीरभूम कोल ब्लॉक का उद्घाटन नहीं करने की अपील की

after-mamta-s-invitation-swapan-dasgupta-appealed-not-to-inaugurate-bir-desk-coal-block
दासगुप्ता ने कहा, ‘‘ हाल के सप्ताहों में बीरभूम जिला राजनीतिक हिंसा के गिरफ्त में रहा है और पुलिस मनमानेपन के गंभीर आरोप लगे हैं। संदेह है कि कुछ भू माफियाओं ने हिंसा भड़कायी। ऐसे में मैं महसूस करती हूं कि दुर्गापूजा के उपरांत परियोजना के उद्घाटन में आपकी उपस्थिति से गलत संकेत जाएगा।’’

नयी दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बीरभूम कोल ब्लॉक का उद्घाटन करने का न्यौता देने के अगले दिन बृहस्पतिवार को राज्यसभा सदस्य स्वप्न दासगुप्ता ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि उन्हें ऐसा करने से पहले उपयुक्त पर्यावरण मंजूरी और पुनर्वास पैकेज का इंतजार करना चाहिए, वरना इससे ‘गलत संकेत’ जाएगा।दासगुप्ता पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजनीतिक अभियान का हिस्सा थे। भाजपा ने ही उन्हें उपरि सदन के लिए नामित किया था।बनर्जी ने बुधवार को प्रधानमंत्री को दुर्गा पूजा के बाद विश्व के दूसरे सबसे बड़े को ब्लॉक देवचा पचमी का उद्घाटन करने का निमंत्रण दिया था। उसके अगले दिन दासगुप्ता ने मोदी को चिट्ठी लिखी।

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने की अमित शाह से मुलाकात, NRC का मुद्दा उठाया

उन्होंने लिखा है, ‘‘योजना बिल्कुल प्रारंभिक चरण में है और संभावित सामाजिक एवं पर्यावरण परिणामों का अध्ययन नहीं किया गया है। पर्यावरण अनापत्ति हासिल करने की प्रक्रिया अबतक शुरू भी नहीं हुई है।’’ उन्होंने पत्र में कहा है कि जहां कोल ब्लॉक है वहां संभावित आदिवासिसयों की घनी आबादी है और विस्थापित लोगों के पुनर्वास की योजना अबतक मूर्त रूप नहीं ले पायी है।दासगुप्ता ने कहा, ‘‘ हाल के सप्ताहों में बीरभूम जिला राजनीतिक हिंसा के गिरफ्त में रहा है और पुलिस मनमानेपन के गंभीर आरोप लगे हैं। संदेह है कि कुछ भू माफियाओं ने हिंसा भड़कायी। ऐसे में मैं महसूस करती हूं कि दुर्गापूजा के उपरांत परियोजना के उद्घाटन में आपकी उपस्थिति से गलत संकेत जाएगा।’’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़