कांग्रेस में उठापटक के बीच सोनिया गांधी से मिले एके एंटनी, जानें मुलाकात में क्या हुई बात

AK Antony
ANI
अंकित सिंह । Sep 28, 2022 7:34PM
सोनिया गांधी के बेहद भरोसेमंद के माने जाने वाले पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी को भी दिल्ली बुलाया गया था। आज एके एंटनी की मुलाकात सोनिया गांधी से हुई है। माना जा रहा है कि इस बैठक में राजस्थान के साथ-साथ वर्तमान में कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में किसे आगे किया जाए, इसको लेकर भी चर्चा हुई होगी।

कांग्रेस में इन दिनों सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। राजस्थान कांग्रेस संकट के बीच पार्टी अध्यक्ष पद के लिए चुनाव भी होने हैं। स्थिति फिलहाल ऐसी है कि पार्टी के समक्ष एक बड़ी चुनौती यह है कि आखिर कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में किसे खड़ा किया जाए, क्योंकि शशि थरूर पहले से ही इस अध्यक्ष पद की रेस में नामांकन भरने का मूड बना चुके हैं। हालांकि, सूत्र यह दावा कर रहे हैं कि गांधी परिवार कोई मजबूत उम्मीदवार उतारने के पक्ष में है। पहले इसमें अशोक गहलोत का नाम चल रहा था। लेकिन जिस तरीके से राजस्थान में राजनीतिक उठापटक मचा, उसके बाद से अशोक गहलोत इस रेस में पिछड़ गए। अब अशोक गहलोत के विकल्प पर लगातार विचार किया जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान संकट की वजह से गुजरात में बिगड़ ना जाए कांग्रेस का खेल! अशोक गहलोत के पास है अहम जिम्मेदारी

वहीं, सोनिया गांधी के बेहद भरोसेमंद के माने जाने वाले पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी को भी दिल्ली बुलाया गया था। आज एके एंटनी की मुलाकात सोनिया गांधी से हुई है। माना जा रहा है कि इस बैठक में राजस्थान के साथ-साथ वर्तमान में कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में किसे आगे किया जाए, इसको लेकर भी चर्चा हुई होगी। हालांकि, बैठक से निकलने के बाद एके एंटनी ने साफ तौर पर कहा कि यह एक सामान्य राजनीतिक मुलाकात थी जिसमें वर्तमान राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा की गई है। एके एंटनी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता पवन कुमार बंसल से भी मुलाकात की है। आपको बता दें कि पवन कुमार बंसल के पास एक नामांकन फॉर्म पड़ा हुआ है। ऐसे में सवाल यह है कि क्या एके एंटनी पार्टी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल कर सकते हैं?

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे दिग्विजय सिंह, शशि थरूर से होगा मुकाबला

जब मुलाकात को लेकर एके एंटनी से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ मेरी अच्छी मुलाकात हुई, हमने पार्टी और राजनीतिक मामलों पर चर्चा की। हालांकि, खबर यह भी आ रही है कि दिग्विजय सिंह भी अब कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में उतर सकते हैं। दिग्विजय सिंह भी सोनिया गांधी और गांधी परिवार के बेहद भरोसेमंद हैं। फिलहाल राजनीतिक संकट कांग्रेस के लिए राजस्थान में भी बहुत बड़ा है। राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच वर्चस्व की लड़ाई चल रही है। यही कारण है कि लगातार सोनिया गांधी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर रही हैं। 

अन्य न्यूज़