3087 किमी प्रति घंटे की रफ्तार, टारगेट को सफलतापूर्वक किया ध्वस्त, जैसलमेर में दिखा आकाश मिसाइल का जलवा

3087 किमी प्रति घंटे की रफ्तार, टारगेट को सफलतापूर्वक किया ध्वस्त, जैसलमेर में दिखा आकाश मिसाइल का जलवा
Creative Common

डीआरडीओ ने राजस्थान के जैसलमेर में आकाश मिसाइल के एडवांस वर्जन के परीक्षण को अंजाम दिया है। पोखरण फील्ड फाइरिंग रेंज में इसका परीक्षण किया गया।

भारतीय सेना को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। आकाश मिसाइल के एडवांस वर्जन का सफल परीक्षण किया गया है। डीआरडीओ ने राजस्थान के जैसलमेर में इस परीक्षण को अंजाम दिया है। 3087 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ये भारतीय मिसाइल दौड़ेगी। पोखरण फील्ड फाइरिंग रेंज में इसका परीक्षण किया गया। डीआरडीओ और आर्मी के अधिकारियों की मौजूदगी में इसका परीक्षण हुआ है। दागे गए इस मिसाइल ने अपने टारगेट को सफलता पूर्वक ध्वस्त किया है। 

इसे भी पढ़ें: मरियम नवाज का दावा- इमरान खान ने सत्ता में बने रहने के लिये सेना से भीख मांगी थी

मिसाइल प्रणाली विमान को 30 किलोमीटर दूर और 18 हजार मीटर ऊंचाई तक टारगेट कर सकती है। मिसाइल में लड़ाकू जेट, हवा से सतह पर मार करने वाली मिसाइल और क्रूज मिसाइल जैसे हवाई लक्ष्यों को निशाना बनाने की क्षमता है। पिछले साल  सितंबर के महीने में भी इस मिसाइल की ओडिशा के चांदीपुर स्थित इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज से सफल परीक्षण किया गया था। तब इसने मानवरहित हवाई टारगेट को ट्रैक करके उसे हवा में ही ध्वस्त कर दिया था। 

फिलहाल भारत में आकाश मिसाइल के तीन वेरिएंट मौजूद है-

आकाश एमके- 30 किलोमीटर की रेंज

आकाश एमके-2- 40 किलोमीटर की रेंज

आकाश एनजी0 80 किलोमीटर की रेंज

बता दें कि आकाश मिसाइल के एडवांस वर्जन में स्वदेशी एक्टिव आरएफ सीकर लगा है, जो दुश्मन के टारगेट को पहचानने की सटीकता को बढ़ाता है। इसके अलावा इसमें अत्यधिक ऊंचाई पर जाने के बाद तापमान नियंत्रण के यंत्र को अपग्रेड किया गया है। इसके अलावा भी कई एडवांस तकनीकों को जोड़ा गया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।