औरंगजेब की कब्र पर अकबर का फातिहा, मनसे ने दी चेतावनी, फडणवीस ने कहा- जाकी रही भावना जैसी

औरंगजेब की कब्र पर अकबर का फातिहा, मनसे ने दी चेतावनी, फडणवीस ने कहा- जाकी रही भावना जैसी
@imAkbarOwaisi

औरंगजेब की कब्र के बाद जब अकबरुद्दीन मजलिस में आए और बताने लगे कि मुसलमान कैसे खतरे में है। उन्होंने कहा कि अपने हक की लड़ाई लड़ो जज्बात में नाव कानून को अपने हाथ में लेने की जरूरत नहीं है।

वैसे तो अकबर, औरंगजेब के परदादा थे लेकिन असदुद्दीन ओवैसी के छोटे भाई और एआईएमआईएम नेता अकबरुद्दीन जब औरंगाबाद पहुंचे तो उन्होंने औरंगजेब की कब्र पर सिर झुका लिया। फूल चढ़ाएं और फातिहा भी पढ़ा। राजनीति में टाइमिंग मायने रखती है। अकबरुद्दीन ने सोच-समझकर औरंगजेब की इबादत का वक्त चुना। काशी के ज्ञानवापी का मामला गरमाया, मस्जिद के सर्वे पर कोर्ट का फैसला आया। जिसके बाद अचानक हैदराबाद के ओवैसी भाई जान का औरंगजेब प्रेम सामने आया। छोटे ओवैसी औरंगजेब की मजार पर फातिहा पढ़ने चल दिए।

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे को मिला धमकी भरा खत, मनसे नेता बोले- पार्टी प्रमुख को कुछ हुआ तो महाराष्ट्र को जला देंगे

इतिहास की किताबें औरंगजेब की क्रूरता और सनक के किस्सों से भरी हुई है। उसी औरंगजेब के बारे में कहा जाता है कि उसने काशी में ज्ञानवापी मस्जिद की तामीर करवाई थी। इधर सर्वे पर कोर्ट का फैसला आया उधर अकबरुद्दीन औरंगजेब की कब्र पर सिर झुका रहे थे। औरंगजेब की कब्र के बाद जब अकबरुद्दीन मजलिस में आए और बताने लगे कि मुसलमान कैसे खतरे में है। उन्होंने कहा कि अपने हक की लड़ाई लड़ो जज्बात में नाव कानून को अपने हाथ में लेने की जरूरत नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जो भी कुत्ता जैसा भी कुत्ता भौंकता है, भौंकने दो जो भी ब्रेड का हो। कुत्तों का काम भोंकना है शेरों का काम खामोश चला जाना है।

इसे भी पढ़ें: मुंबई में लाउडस्पीकर से अजान देने पर एक्शन, तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

फडणवीस ने कसा तंज

अकबरुद्दीन औरंगजेब की कब्र पर पहुंचे तो महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस काशी में कई कार्यक्रमों में हिस्सा ले रहे थे।अकबरुद्दीन के सवाल पर उन्होंने कहा कि जिसकी जैसी भावना उसके वैसे कर्म। पत्रकारों ने जब उनसे पूछा कि औरंगजेब की मजार पर अकबरुद्दीन ओवैसी पहुंचे हैं तो फडणवीस ने कहा कि हमने ऐसा सुना है कि जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखी तिन तैसी। उनकी भावना वैसी है हमारी भावनाएं ऐसी है। 

 मनसे की चेतावनी

गौरतलब है कि औरंगाबाद में ही राज ठाकरे ने एक बड़ी रैली की थी और मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने को लेकर अल्टीमेटम भी दिया था। ऐसे में मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने के लेकर छोटे ओवैसी ने इशारों-इशारों में राज ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा कि उन लोगों के बारे में कुछ नहीं कहना है, जिन्हें अपने ही घर से निकाल दिया गया है। वही ओवैसी के औरंगाबाद दौरे के बाद महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के नेता गजानन काले ने ओवैसी के मकबरे की यात्रा पर आपत्ति जताई और कहा कि महाराष्ट्र सरकार को औरंगजेब की कब्र पर जाने के लिए ओवैसी के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। कार्रवाई नहीं हुई तो मनसे कार्रवाई करेगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...