राज ठाकरे को मिला धमकी भरा खत, मनसे नेता बोले- पार्टी प्रमुख को कुछ हुआ तो महाराष्ट्र को जला देंगे

राज ठाकरे को मिला धमकी भरा खत, मनसे नेता बोले- पार्टी प्रमुख को कुछ हुआ तो महाराष्ट्र को जला देंगे
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

राज ठाकरे को उर्दू में लिखा हुआ एक पत्र मिला, जिसमें उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई है। इस मामले को लेकर बाला नंदगांवकर ने गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल से मुलाकात की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मनसे नेता ने बताया कि राज ठाकरे को जान से मारने की धमकी वाला पत्र भेजा गया है।

मुंबई। महाराष्ट्र में अजान और लाउडस्पीकर को लेकर सियासत गर्मायी हुई है। इसी बीच महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे को जान से मारने की धमकी मिली है। जिसकी वजह से मनसे कार्यकर्ता बौखला गए हैं और उल-जुलूल बयानबाजी कर रहे हैं। मनसे नेता बाला नंदगांवकर ने चेतावनी दी कि अगर मनसे प्रमुख को कुछ हुआ तो हम महाराष्ट्र को जला देंगे। 

इसे भी पढ़ें: 'अयोध्या में घुसने नहीं दूंगा', बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने राज ठाकरे के खिलाफ क्यों खोल रखा है मोर्चा? 

आपको बता दें कि राज ठाकरे को उर्दू में लिखा हुआ एक पत्र मिला, जिसमें उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई है। इस मामले को लेकर बाला नंदगांवकर ने गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल से मुलाकात की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मनसे नेता ने बताया कि राज ठाकरे को जान से मारने की धमकी वाला पत्र भेजा गया है। इस संबंध में मैंने गृह मंत्री से मुलाकात की है।

उन्होंने कहा कि मैंने गृह मंत्री को धमकी भरे पत्र के बारे में बताया है और चेतावनी दी है कि अगर राज ठाकरे को कुछ हुआ तो हम महाराष्ट्र को जला देंगे। इस दौरान उन्होंने यह भी बताया कि पत्र उर्दू में लिखा हुआ है। 

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे के अयोध्या दौरे को लेकर भाजपा के दो सांसद आपस में भिड़े 

राज ठाकरे ने की सरकार की आलोचना

राज ठाकरे ने लाउडस्पीकर के संबंध में उद्धव सरकार की जमकर आलोचना करते हुए कहा कि सरकार उनकी पार्टी के धैर्य की परीक्षा न ले। राज ठाकरे ने कहा कि 28,000 से अधिक मनसे कार्यकर्ताओं को प्रतिबंधात्मक नोटिस दिए गए हैं, जबकि हजारों कार्यकर्ताओं को तड़ीपार किया गया है। इसी बीच उन्होंने पूछा कि यह (पुलिस कार्रवाई) किस लिए है? ध्वनि प्रदूषण फैलाने वाली मस्जिदों से लाउडस्पीकर नहीं हटाने के लिए?





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।