अखिलेश यादव का तंज, कहा- AMU के छात्रों से क्यों हटायी गयी देशद्रोह की धारा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 22, 2019   19:21
अखिलेश यादव का तंज, कहा- AMU के छात्रों से क्यों हटायी गयी देशद्रोह की धारा

उन्होंने बताया कि घटना के वीडियो फुटेज में एएमयू के आरोपी 14 छात्रों द्वारा भारत विरोधी और पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी किये जाने के कोई सुबूत नहीं मिले हैं, लिहाजा उन पर लगायी गयी देशद्रोह सम्बन्धी धारा को दो दिन पहले हटा लिया गया है।

अलीगढ़/लखनऊ (उप्र)। अलीगढ़ पुलिस ने हाल में देशद्रोह के आरोप में दर्ज मामले का सामना कर रहे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के 14 छात्रों पर से राष्ट्रद्रोह की धारा हटा ली है। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने छात्रों पर बेवजह देशद्रोह का मामला दर्ज किये जाने को संविधान के खिलाफ करार दिया है। अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने बताया कि एएमयू के छात्रों के खिलाफ दर्ज मामले से देशद्रोह की धारा हटा ली गयी है। 

उन्होंने बताया कि घटना के वीडियो फुटेज में एएमयू के आरोपी 14 छात्रों द्वारा भारत विरोधी और पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी किये जाने के कोई सुबूत नहीं मिले हैं, लिहाजा उन पर लगायी गयी देशद्रोह सम्बन्धी धारा को दो दिन पहले हटा लिया गया है। इस बीच, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया  राजद्रोह के आरोप से गम्भीर कोई आरोप नहीं होता है। इसका छात्रों और युवाओं के खिलाफ शस्त्र के तौर पर प्रयोग संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन है। 

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव का सवाल, आखिर CRPF की बस से कैसे टकराया वाहन?

उन्होंने कहा कि एएमयू के छात्रों के खिलाफ राजद्रोह का आरोप हटाया गया है, लेकिन भाजपा ने इससे साबित किया है कि विभाजन की राजनीति उसकी पहचान है। गौरतलब है कि गत 12 फरवरी को भाजपा के युवा संगठन भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष मुकेश लोधी ने मामला दर्ज करवाया था, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि उसे एएमयू परिसर में भारत विरोधी और पाकिस्तान के पक्ष में नारेबाजी कर रहे छात्रों ने मारा-पीटा और जान से मारने की धमकी दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।