• त्रिपुरा भाजपा में भी सब कुछ ठीक नहीं, संगठन में बदलाव के मिल रहे संकेत

अंकित सिंह Jun 18, 2021 15:28

भाजपा पार्टी में टूट से बचने के लिए गठन में फिलहाल बड़ा बदलाव कर सकती है। नाराज चल रहे पार्टी नेताओं का मानना है कि राज्य में संगठन नेतृत्व में बदलाव किया जाना चाहिए।

पश्चिम बंगाल में चुनावी हार के बाद भाजपा के लिए सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। कई राज्यों से लगातार उथल-पुथल के खबरें आती रही हैं। हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक के बाद अब त्रिपुरा का भी नाम इसमें जुड़ गया है। माना जा रहा है कि पश्चिम बंगाल चुनाव का असर त्रिपुरा में भी दिख सकता है। त्रिपुरा में भाजपा के कई नेता आलाकमान से लगातार संगठन और नेतृत्व को लेकर शिकायत कर रहे हैं। भाजपा पार्टी में टूट से बचने के लिए गठन में फिलहाल बड़ा बदलाव कर सकती है। नाराज चल रहे पार्टी नेताओं का मानना है कि राज्य में संगठन नेतृत्व में बदलाव किया जाना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: असम में कांग्रेस के विधायक रूपज्योति कुर्मी ने पार्टी से दिया इस्तीफा, भाजपा में होंगे शामिल

त्रिपुरा में काफी वक्त से उत्तल पुथल चल रहा है। त्रिपुरा में भाजपा के कई विधायकों ने मुख्यमंत्री बिप्लब देब के खिलाफ ही मोर्चा खोल रखा है। एक समय ऐसा आया था जब भाजपा के कई नेता दिल्ली में डेरा डाल चुके थे। हालांकि हिमंत बिस्वा सरमा और केंद्रीय मंत्री अमित शाह के साथ बैठक के बाद मामले को हल किया गया। कई विधायक मुख्यमंत्री को बदलने की मांग कर चुके हैं। केंद्रीय नेतृत्व के समक्ष मुख्यमंत्री को लेकर लगातार नाराजगी जताई जा रही है। माना जा रहा है कि भाजपा संगठन में बड़ा बदलाव कर सकती है। नाराज नेताओं को कैबिनेट में जगह भी दी जा सकती है। इसके लिए बिप्लब मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: अभिषेक बनर्जी को थप्पड़ जड़ने वाले देबाशीष आचार्या की मौत, परिवार ने हत्या करार दिया

भाजपा के संगठन महामंत्री बीएल संतोष दो दिवसीय त्रिपुरा दौरे पर हैं। कुछ नेताओं का कहना है कि त्रिपुरा को ऐसा अध्यक्ष चाहिए जो संगठन को मजबूत कर सके। हालांकि, मौजूदा अध्यक्ष से किसी प्रकार की नाराजगी नहीं है लेकिन मजबूत अध्यक्ष होना पार्टी के लिए फायदेमंद रहेगा। नेताओं का कहना है कि अगर मजबूत अध्यक्ष रहेगा तभी सरकार के कामकाज की निगरानी कड़ाई से कर सकेगा।