अमानतुल्लाह खान को आज भी नहीं मिली राहत, कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा

Amanatullah Khan
ANI
अंकित सिंह । Sep 26, 2022 4:06PM
अमानतुल्लाह खान की आज यह तीसरी पेशी थी। इससे पहले उन्हें 17 सितंबर को पेश किया गया था। उस वक्त एसीबी ने 14 दिनों की रिमांड मांगी थी। लेकिन कोर्ट ने 4 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा था। 21 सितंबर को उन्हें 5 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था।

आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्लाह खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। आज उन्हें राउस एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया था, जहां उन्हें फिर से 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। आपको बता दें कि 16 सितंबर को एसीबी की टीम ने अमानतुल्लाह खान को गिरफ्तार किया था। अमानतुल्लाह खान की आज यह तीसरी पेशी थी। इससे पहले उन्हें 17 सितंबर को पेश किया गया था। उस वक्त एसीबी ने 14 दिनों की रिमांड मांगी थी। लेकिन कोर्ट ने 4 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा था। 21 सितंबर को उन्हें 5 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। 

इसे भी पढ़ें: गुजरात दौरे के दौरान बोले CM केजरीवाल, कांग्रेस को वोट दिया तो सोनिया का बेटे और बीजेपी को वोट दिया तो अमित शाह के बेटे की होगी तरक्की

ओखला से आप विधायक अमानतुल्लाह खान को इस बार सीधे 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। एसीबी की टीम लगातार उनसे पूछताछ कर रही है। गिरफ्तारी से पहले अमानतुल्लाह खान के कई ठिकानों पर जबरदस्त तरीके से छापेमारी की गई थी। इसी के बाद अमानतुल्लाह खान समेत उनके सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया था। अमानतुल्लाह खान के सहयोगियों के बाद से 2 अवैध हथियार, कारतूस और 24 लाख रुपए भी बरामद किए गए थे। आप विधायक पर दिल्ली वक्फ बोर्ड में अवैध तरीके से 32 कर्मचारियों की नियुक्ति और वेतन में धांधली का आरोप है। अमानतुल्लाह खान दिल्ली वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष भी हैं। 

इसे भी पढ़ें: SC में राज्यपाल के फैसले को चुनौती, राजभवन तक विधायकों संग CM मान ने किया मार्च, बीजेपी का AAP कार्यालय के बाहर प्रदर्शन

भर्ती में कथित अनियमितता को लेकर एक प्राथमिकी पहले ही दर्ज की जा चुकी है। प्राथमिकी के मुताबिक, खान ने बोर्ड के अध्यक्ष पद पर रहने के दौरान नियमों और सरकारी दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हुए 32 व्यक्तियों की अवैध भर्ती की। वहीं, केजरीवाल ने उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, जेल में बंद मंत्री सत्येंद्र जैन और विधायक अमानतुल्लाह खान का बचाव किया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि मोदी सरकार ने केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई), प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और अन्य एजेंसियों को उनके नेताओं को ‘‘झूठे मामलों में फंसाने के लिए’’ रखा है।

अन्य न्यूज़