• मुख्यमंत्री शहीद ऊधम सिंह की पिस्तौल और डायरी को UK से वापस लेने के संबंध में केंद्र सरकार से करेंगे बात

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि महान शहीद की यह धरोहर विदेश में से वापस लाने के बाद इनको आम लोगों के लिए यहाँ के अजायब घर में रखा जायेगा क्योंकि सरकार इनको विश्व स्तरीय ऐतिहासिक यादगार बनाना चाहती है।

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज यहाँ कहा कि राज्य सरकार की तरफ से जल्दी ही शहीद ऊधम सिंह की पिस्तौल और डायरी को यू. के. से वापस लेने का मुद्दा केंद्रीय विदेश मंत्रालय के समक्ष उठाया जायेगा। शहीद ऊधम सिंह के 82वें शहीदी दिवस के मौके यहाँ करवाए गए राज्य स्तरीय समारोह के दौरान पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि अथक कोशिशों स्वरुप शहीद की अस्थियां 40 सालों बाद भारत वापस लाईं गई। उन्होंने कहा कि अब शहीद ऊधम सिंह की पिस्तौल, जिससे उन्होंने पंजाब के समकालीन लेफ्टिनेंट गवर्नर माइकल ओडवायर को मारा था, स्काटलैंड में है और उनकी डायरी भी वहीं कहीं है। 

इसे भी पढ़ें: सरकार और पार्टी लीडरशिप मिलकर करेगी काम, अमरिंदर सिंह बोले- 93 फीसदी वादे हो चुके हैं पूरे 

उन्होंने कहा कि भारत सरकार को यह मामला ब्रिटिश हाई कमिशन के पास उठाना चाहिए जिससे शहीद ऊधम सिंह से सम्बन्धित यह चीजें वापस लाईं जा सकें। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि महान शहीद की यह धरोहर विदेश में से वापस लाने के बाद इनको आम लोगों के लिए यहाँ के अजायब घर में रखा जायेगा क्योंकि सरकार इनको विश्व स्तरीय ऐतिहासिक यादगार बनाना चाहती है। 

इसे भी पढ़ें: खेल मंत्री सोढ़ी का ऐलान, गोल्ड जीतने पर टीम में शामिल पंजाब के हर हॉकी खिलाड़ी को देंगे 2.25 करोड़ 

एक अन्य सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां शहीदों की याद में जल्यिांवाला बाग़, हुसैनीवाला और अब शहीद ऊधम सिंह जैसी कई स्मारक बनाये गये हैं और जल्द ही स्वतंत्रता संग्राम के अनेकों गुमनाम नायकों की याद में एक और स्मारक का निर्माण किया जायेगा जिससे मिट्टी के उन महान सपूतों को श्रद्धांजलि दी जा सके। उन्होंने कहा कि ऐसे स्मारक हमें हमेशा हमारी बहादुरी की शानदार विरासत की याद दिलाते हैं और नौजवानों में देशभक्ति की भावना को जगाने में इनकी अहम भूमिका है।