झारखंड में अमित शाह बोले, बुलेट से नहीं बैलेट से होगा विकास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2019   20:53
झारखंड में अमित शाह बोले, बुलेट से नहीं बैलेट से होगा विकास

अमित शाह ने कहा कि वर्षों तक राम मंदिर निर्माण कार्य को लटका कर रखा गया। इस मामले में उच्चतम न्यायालय में कांग्रेस ने अड़ंगा लगाकर फैसला नहीं होने दिया।

गढ़वा (झारखंड)। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार यहां साफ शब्दों में कहा कि ‘विकास बुलेट से नहीं बल्कि बैलेट’ से होगा क्योंकि जहां अशांति होती है वहां विकास नहीं होता विकास के लिए शांति का होना बहुत जरूरी है। पांच चरणों में होने वाले झारखंड विधानसभा चुनाव में 30 नवंबर के पहले चरण के प्रचार के अंतिम दिन केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने नक्सलवाद पर करारा हमला बोला।

शाह ने भाजपा की रघुवर दास के नेतृत्व वाली सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा, ‘‘वर्तमान भाजपा सरकार ने 5 वर्ष के अपने कार्यकाल में झारखंड और विशेषकर पलामू में नक्सलवाद को समाप्त करने का काम किया है।’’ उन्होंने हाल में चंदवा में हुए नक्सली हमले में चार जवानों के शहीद होने की घटना का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘मैं बता देना चाहता हूं कि राज्य में एक बार फिर से भाजपा की सरकार बनने जा रही है और हमारी सरकार नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ फेंकेगी।’’ उन्होंने दोहराया, ‘‘विकास बंदूक की गोली से नहीं होगा बल्कि विकास तब होगा जब जनता चुनावों में कमल के बटन पर अपनी अंगुली दबायेगी।’’

इसे भी पढ़ें: सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास विदेश नीति का भी मूलमंत्र: जयशंकर

अमित शाह ने कहा कि वर्षों तक राम मंदिर निर्माण कार्य को लटका कर रखा गया। इस मामले में उच्चतम न्यायालय में कांग्रेस ने अड़ंगा लगाकर फैसला नहीं होने दिया। लेकिन अब राम मंदिर पर फैसला आ चुका है। भव्य राम मंदिर बनने से कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस वोट बैंक की वजह से जम्मू कश्मीर से जुड़े अनुच्छेद 370 और 35 ए पर कोई कार्यवाही नहीं कर रही थी। देश की जनता और झारखंड की जनता के प्रचंड बहुमत के बल पर 5 अगस्त 2019 को मोदी जी ने अनुच्छेद 370 और 35 ए को समाप्त कर ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ की परिकल्पना को सार्थक किया।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।