कोरोना से प्रभावित अर्थव्यवस्था को केंद्र सरकार देगी गति, 1.1 लाख करोड़ रुपए की क्रेडिट गारंटी योजना का ऐलान

कोरोना से प्रभावित अर्थव्यवस्था को केंद्र सरकार देगी गति, 1.1 लाख करोड़ रुपए की क्रेडिट गारंटी योजना का ऐलान

वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि पिछले साल 29 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का आत्मनिर्भर पैकेज दिया था। इस बार फिर से हम अलग-अलग क्षेत्रों के लिए राहत पैकेज लेकर आएं हैं।

नयी दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बड़ी घोषणा करते हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने स्वास्थ्य क्षेत्र के 50 हजार करोड़ रुपए की योजना का ऐलान किया। वहीं, वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि पिछले साल 29 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का आत्मनिर्भर पैकेज दिया था। इस बार फिर से हम अलग-अलग क्षेत्रों के लिए राहत पैकेज लेकर आए हैं। 

इसे भी पढ़ें: सरकार ने SC को बताया- 31 जुलाई तक कोविड टीकों की 51.6 करोड़ खुराक उपलब्ध रहेंगी 

उन्होंने कहा कि कोविड प्रभावित सेक्टर्स के लिए 1.1 लाख करोड़ रुपए की क्रेडिट गारंटी योजना लेकर आएं हैं। स्वास्थ्य सेक्टर पर विशेष तौर पर बल दिया गया है और इसके लिए 50 हजार करोड़ रुपए रखा गया है।  

कोरोना वायरस की दूसरी लहर से कई सेक्टर प्रभावित हुए हैं और लगातार केंद्र सरकार से राहत की मांग कर रहे हैं। ऐसे में सरकार ने 1.1 लाख करोड़ रुपए की क्रेडिट गारंटी योजना का ऐलान किया। इस योजना के तहत 25 लाख लोग लाभान्वित होंगे। छोटे कर्जदाताओं-उधारकर्ताओं को इसका फायदा मिलेगा। 

इसे भी पढ़ें: किसानों से बातचीत के लिए भारत सरकार तैयार, कृषि मंत्री बोले- वे अपनी आपत्ति को खुले मन से बताएं 

वित्त मंत्री ने इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी योजना के तहत अतिरिक्त 1.5 लाख करोड़ रुपए जारी किया। यह योजना सबसे पहले पिछले साल लॉकडाउन के दौरान की आत्मनिर्भर पैकेज के तहत आई थी।

टूरिज्म सेक्टर पर भी सरकार ने ध्यान दिया है। बता दें कि 11,000 से ज्यादा रजिस्टर्ड टूरिस्ट गाइड्स, ट्रैवल और टूरिज्म के स्टेकहोल्डर्ड को भी सहायता दी जाएगी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक गाइड्स को 1 लाख रुपए, ट्रैवल और टूरिज्म के स्टेकहोल्डर्स को 10 लाख रुपए तक का 100 फीसदी गारंटीड लोन मिलेगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।