बंगाल में भाजपा को एक और बड़ा झटका, विधायक कृष्ण कल्याणी तृणमूल कांग्रेस में शामिल

बंगाल में भाजपा को एक और बड़ा झटका, विधायक कृष्ण कल्याणी तृणमूल कांग्रेस में शामिल

बताया जा रहा है कि भाजपा जिला अध्यक्ष वासुदेव सरकार से कृष्ण कल्याणी का विवाद हो गया था। इसके बाद से कृष्ण कल्याणी ने पार्टी के कार्यक्रमों में शामिल होने से इनकार कर दिया था। इन सबके बीच भाजपा की ओर से एक दिन पहले ही उन्हें कारण बताओ नोटिस भेजा गया था।

पश्चिम बंगाल में भाजपा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पार्टी के लिए फिलहाल परिस्थितियां भी बदलती जा रही है। विधानसभा चुनाव से पहले जहां तृणमूल कांग्रेस के विधायक भगवा पार्टी में खूब शामिल हो रहे थे। तो वहीं चुनाव बाद तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद से भाजपा के कई विधायक तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। इन सबके बीच भाजपा को एक और बड़ा झटका लगा है। भाजपा के रायगंज से विधायक कृष्ण कल्याणी ने तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है। कुछ दिन पहले ही वह पार्टी से इस्तीफा दे चुके थे।

 

यह रहा मामला

बताया जा रहा है कि भाजपा जिला अध्यक्ष वासुदेव सरकार से कृष्ण कल्याणी का विवाद हो गया था। इसके बाद से कृष्ण कल्याणी ने पार्टी के कार्यक्रमों में शामिल होने से इनकार कर दिया था। इन सबके बीच भाजपा की ओर से एक दिन पहले ही उन्हें कारण बताओ नोटिस भेजा गया था। यह नोटिस रायगंज से भाजपा सांसद देबाश्री चौधरी के खिलाफ उनकी बयानबाजी को लेकर भेजा गया था। नोटिस का जवाब देने से पहले ही कृष्ण कल्याणी ने इस्तीफा दे दिया था।

इसे भी पढ़ें: बीएसएफ के अधिकारक्षेत्र में बढ़ोतरी से लोगों को प्रताड़ना झेलनी पड़ेगी: ममता बनर्जी

कई झटके लग चुके हैं

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा को करारी शिकस्त दी थी। भाजपा महज 77 सीट जीत पाने में ही कामयाब हो पाई। भाजपा के कई बड़े नेता तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम चुके हैं जिसमें बाबुल सुप्रियो और मुकुल रॉय जैसे नेताओं का नाम शामिल है। कई ऐसे नेता भी टीएमसी में शामिल हो चुके हैं जो चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए थे। हाल में ही भाजपा ने राज्य में संगठन में बड़ा परिवर्तन करते हुए दिलीप घोष की जगह सुकांता मजूमदार को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी है। 

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।