सेना प्रमुख बोले- आतंकवादियों को पनाह देने की अपनी आदत से लाचार है पाकिस्तान, चीन के साथ गतिरोध पर कही यह बात

सेना प्रमुख बोले- आतंकवादियों को पनाह देने की अपनी आदत से लाचार है पाकिस्तान, चीन के साथ गतिरोध पर कही यह बात

जनरल नरवणे ने कहा विभिन्न स्तरों पर संयुक्त प्रयासों से कई क्षेत्रों से सेनाएं पीछे हटी हैं, जो एक रचनात्मक कदम है। उन्होंने कहा कि हमारा संदेश स्पष्ट है कि भारतीय सेना देश की सीमाओं पर यथास्थिति को एकतरफा बदलने के किसी भी प्रयास को सफल नहीं होने देगी।

सेना दिवस परेड के मौके पर सेना प्रमुख जनरल एमएम नवरणे ने पिछले साल को सेना के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण और चुनौतीपूर्ण बताते हुए कहा कि महिलाओं को समान अवसर देने के लिए सेना ने बड़ा कदम उठाया है। अब वे एक उच्च पद पर आ सकती हैं और बड़ी जिम्मेदारियां ले सकती हैं। इस साल एनडीए में महिला कैडेट्स भी शामिल होंगी और आर्मी पायलट के तौर पर महिला पायलट की मंजूरी शुरू हो जाएगी। पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध को लेकर नवरणे ने कहा कि स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए हाल में भारत-चीन के बीच 14वें दौर की सैन्य-स्तरीय वार्ता हुई।

जनरल नरवणे ने कहा विभिन्न स्तरों पर संयुक्त प्रयासों से कई क्षेत्रों से सेनाएं पीछे हटी हैं, जो एक रचनात्मक कदम है। उन्होंने कहा कि हमारा संदेश स्पष्ट है कि भारतीय सेना देश की सीमाओं पर यथास्थिति को एकतरफा बदलने के किसी भी प्रयास को सफल नहीं होने देगी। सेना प्रमुख ने कहा कि पिछले साल चीन के तनाव के कारण सेना के लिए चुनौतीपूर्ण था और हाल ही में स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए 14वीं बैठक हुई। कई बिंदुओं पर विघटन था। नरवणे ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवादियों को पनाह देने की अपनी आदत से लाचार है। सीमा पार प्रशिक्षण शिविरों में तकरीबन 300-400 आतंकवादी घुसपैठ करने के अवसर की तलाश में बैठे हैं। सरहद पार से ड्रोन द्वारा हथियारों की तस्करी की कोशिश भी जारी है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।