पाकिस्तान में सेना ही एक स्थिर संस्था है : आरिफ मोहम्मद खान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 21, 2019   10:45
पाकिस्तान में सेना ही एक स्थिर संस्था है : आरिफ मोहम्मद खान

यह बहस का मुद्दा नहीं है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने से कश्मीरियों और उनके अधिकारों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 के हटाने से जम्मू कश्मीर के लोग सशक्त होंगे।

जयपुर। केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान में सेना ही एक स्थिर संस्था है और वह अपना वर्चस्व बनाए रखने के लिए भारत- पाक संबंधों को बेहतर नहीं होने देगी। जयपुर में दीनदयाल स्मृति व्याख्यान को संबोधित करते हुए खान ने कहा कि पाकिस्तान को कश्मीर से कोई लेना देना नहीं है, लेकिन उसकी सेना अपने वर्चस्व को बनाए रखने के लिए इस मुद्दे को जीवित रखना चाहती है।

इसे भी पढ़ें: मारो-पीटो की राजनीति से पता नहीं कब बाहर निकलेगा पश्चिम बंगाल

पाकिस्तान में सेना ही एकमात्र स्थिर संस्थान है और वह अपने वर्चस्व को बनाए रखने के लिए भारत पाक संबंधों को बेहतर नहीं होने देगी। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 का प्रयोग आतंकवाद का अड्डा बनाने के लिये किया जा रहा था। यह एक अस्थायी धारा थी जिसे बहुत पहले हटा लिया जाना चाहिए था। यह बहस का मुद्दा नहीं है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने से कश्मीरियों और उनके अधिकारों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 के हटाने से जम्मू कश्मीर के लोग सशक्त होंगे।

इसे भी पढ़ें: यादवपुर विश्वविद्यालय में बाबुल सुप्रियो के साथ धक्का-मुक्की, राज्यपाल परिसर में पहुंचे

उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर सरकार ने अपना काम कर दिया है और अब यह हमारा काम है कि हम कश्मीरियों का विश्वास हासिल करें और उन्हें मुख्यधारा से जोडे। पूर्व सांसद डा महेश चंद्र शर्मा ने कहा कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का जब प्रस्ताव आया था तब उसका बहुत विरोध हुआ था। यह एक मात्र अनुच्छेद था जिस पर संविधान सभा में चर्चा नहीं हुई क्योंकि इसे अस्थाई अनुच्छेद के तौर पर स्वीकार किया गया था। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।