पीएम मोदी को मिले गिफ्ट्स की हुई नीलामी, नीरज चोपड़ा का भाला डेढ़ करोड़ में बिका

पीएम मोदी को मिले गिफ्ट्स की हुई नीलामी, नीरज चोपड़ा का भाला डेढ़ करोड़ में बिका

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने भवानी देवी के हस्ताक्षर वाली तलवार के लिए 1.25 करोड़ रुपये की सर्वाधिक बोली लगी। इसके लिए 60 लाख रुपये का बेस प्राइस तय किया गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उपहार में मिले चीजों की नीलामी का समय पूरा हो गया है। इस नीलामी में ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाले नीरज चोपड़ा के भाले की सबसे ज्यादा बोली डेढ़ करोड़ रुपए की लगी। इन चीजों की नीलामी का आखिरी तारीख गुरुवार थी। मोदी के उपहारों को लेकर वेबसाइट पर एक ऑप्शन के माध्यम से ई-नीलामी की गई थी। हाल में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नीरज चोपड़ा की मुलाकात हुई थी। जिसके बाद नीरज चोपड़ा ने मोदी को भाला उपहार स्वरूप दिया था। इस भाले की कीमत डेढ़ करोड़ लगाई गई है। हालांकि मार्केट में 80 हजार से 1 लाख रुपये तक इसकी बताई जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय वायु सेना का 89वां स्थापना दिवस, पीएम मोदी ने 'वायु योद्धाओं' को किया सैल्यूट

इसके अलावा टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने भवानी देवी के हस्ताक्षर वाली तलवार के लिए 1.25 करोड़ रुपये की सर्वाधिक बोली लगी। इसके लिए 60 लाख रुपये का बेस प्राइस तय किया गया था। वहीं, सुमित अंतिल के भाले के लिए 1.002 करोड़ रुपये, तोक्यो 2020 पैरालंपिक दल द्वारा दिए गए ऑटोग्राफ वाले अंगवस्त्र के लिए एक करोड़ रुपये और लवलीना बोरगोहेन के मुक्केबाजी दस्ताने के लिए 91 लाख रुपये की बोली प्राप्त हुई। संस्कृति मंत्रालय ने यह जानकारी दी। मोदी को मिले उपहारों की बृहस्पतिवार को हुई ई-नीलामी में सरदार पटेल की मूर्ति के लिए सबसे अधिक (140) बोली प्राप्त हुईं। 

इसे भी पढ़ें: लखीमपुर खीरी हिंसा पर प्रधानमंत्री मोदी की ‘चुप्पी’ पर कपिल सिब्बल ने उठाया सवाल

वहीं, सबसे अधिक बोली प्राप्त करने वाली वस्तुओं में लकड़ी से बनी गणेश प्रतिमा भी शामिल रही जिसके लिए 117 बोलियां लगीं। इसी तरह, पुणे मेट्रो लाइन के एक स्मृति चिह्न के लिए 104 बोलियां जबकि विजय मशाल के स्मृति चिह्न के लिए 98 बोलियां प्राप्त हुईं। आपको बता दें कि की नीलामी से मिलने वाली राशि नमामि गंगे मिशन में दान के रूप में दिया जाता है। इससे पहले 2019 में भी सितंबर में नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट में बहुत सारी चीजों की नीलामी की गई थी। उस दौरान भी जो राशि मिली थी उसको दान में दे दिया गया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।