उत्तराखंड के चमोली में हुआ हिमस्खलन, हिमाचल प्रदेश में बारिश और बर्फबारी ने मचाया कहर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   07:54
उत्तराखंड के चमोली में हुआ हिमस्खलन, हिमाचल प्रदेश में बारिश और बर्फबारी ने मचाया कहर

उत्तराखंड में चमोली जिले की नीति घाटी की सीमा से सटे इलाके में शुक्रवार को हिमस्खलन हुआ है। हिमस्खलन की सूचना मिलने के बाद सीमा सड़क संगठन के अधिकारी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं।

उत्तराखंड में चमोली जिले की नीति घाटी की सीमा से सटे इलाके में शुक्रवार को हिमस्खलन हुआ है। हिमस्खलन की सूचना मिलने के बाद सीमा सड़क संगठन के अधिकारी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं। सीमा सडक संगठन के एक अधिकारी ने बताया कि चमोली जिले की नीति घाटी में मलारी के समीप सुमना चौकी से आगे ग्लेशियर के गिरने की सूचना मिली है। हालांकि, बर्फबारी के कारण उस इलाके में संपर्क नहीं हो पा रहा है। इन दिनों सीमा सड़क संगठन की ओर से सड़क निर्माण के लिए वहां मजदूर कार्य कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के सतना में भीषण सड़क दुर्घटना, तीन लोगों की मौत 

अधिकारी ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही जोशीमठ से संगठन की एक टीम मौके के लिए रवाना हो गई है। इस बीच, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने ट्वीट कर कहा कि हिमस्खलन की घटना के संबंध में अलर्ट जारी किया गया है। उन्होंने कहा कि वह सीमा सड़क संगठन और जिला प्रशासन के अधिकारियों के संपर्क में हैं। जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि वह मामले पर करीबी नजर बनाए हुए हैं। सिंह ने ट्वीट किया, मैं परिस्थिति पर करीबी नजर बनाए हुए हूं। हमारे अधिकारी सतर्क हैं और सचिव स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में एक दल हालात पर निगरानी रख रहा है।

हिमाचल प्रदेश में बर्फबारी 

हिमाचल प्रदेश में पिछले 24 घंटे में ऊंचाई वाले कई इलाकों में हिमपात हुआ जबकि अन्य हिस्सों में बारिश हुई। यह जानकारी शुक्रवार को मौसम विज्ञान विभाग ने दी। इस बीच, एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि भारी बर्फबारी के कारण मनाली-लेह सड़क पर लाहौल-स्पीति जिले में बारा-लाचा दर्रा में फंसे 234 लोगों को बचा लिया गया। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शिमला शहर के संजौली इलाके में शुक्रवार तड़के भारी बारिश के कारण पांच मंजिला इमारत ढह गई। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि देखभाल करने वाले (केयरटेकर) को छोड़कर इमारत में कोई नहीं रहता था।

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल चुनाव के सातवें चरण के लिए प्रचार मुहिम समाप्त, 26 अप्रैल को होगा मतदान

केयरटेकर को एक दिन पहले ही भवन के एक हिस्से के झुकने के बाद सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया था। मौसम विज्ञान केंद्र, शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि किन्नौर जिले के काल्पा और लाहौल-स्पीति के केलांग में क्रमश: 38.4 सेंटीमीटर और 20 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई। इसके अलावा जुब्बाल, कोटखाई, नरकंडा, रोहरू, खदराला और मनाली में भी बर्फकारी हुई। राज्य में सबसे कम तापमान केलांग में शून्य से 1.4 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया, जबकि अधिकतम तापमान उना में 25.2 डिग्री सेल्सियस रहा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।