मध्य प्रदेश में बने आयुष्मान योजना के रिकॉर्ड दो करोड़ कार्ड

मध्य प्रदेश में बने आयुष्मान योजना के रिकॉर्ड दो करोड़ कार्ड

आयुष्मान, भारत निरामयम मध्य प्रदेश की मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. सलोनी सिडाना ने बताया कि अभियान से जुड़ी टीमों के समन्वित प्रयासों से तीन माह से कम की अवधि में 60 लाख कार्ड बनाने का रिकॉर्ड कायम हुआ।

भोपाल। मध्य प्रदेश में आयुष्मान भारत निरामयम योजना में रिकॉर्ड दो करोड़ कार्ड  बनाए जा चुके हैं। प्रदेश की इस उपलब्धि पर आयुष्मान, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, भारत सरकार की मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. इंदु भूषण ने राज्य शासन को ट्वीट कर बधाई दी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशानुसार आत्म-निर्भर मध्य प्रदेश के रोड मैप पर बढ़ते हुए लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी द्वारा नवंबर माह से विशेष अभियान संचालित कर यह उपलब्धि प्राप्त की गई है। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान द्वारा आयुष्मान कार्ड बनाने की अभियान को तेज गति देने के लिए सतत समीक्षा की गई।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री बोले, किसानों के नाम पर दिल्ली में देश विरोधी ताकतों ने किया तांडव

आयुष्मान, भारत निरामयम मध्य प्रदेश की मुख्य कार्यपालन अधिकारी डॉ. सलोनी सिडाना ने बताया कि अभियान से जुड़ी  टीमों के समन्वित प्रयासों से तीन माह से कम की अवधि में 60 लाख कार्ड  बनाने का रिकॉर्ड कायम हुआ। नवम्बर 2020 के पहले प्रदेश में कुल एक करोड़ 40 लाख कार्ड बनाए गए थे। विशेष अभियान के दौरान कार्ड बनाने में आई गति के फलस्वरूप प्रदेश में दो करोड़ कार्ड बनाने के लक्ष्य को 25 जनवरी 2021 को पूरा कर लिया गया। प्रदेश की दो करोड़ हितग्राही नीलम देवी साकेत उम्र 25 वर्ष जिला रीवा की निवास हैं।  

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के 185 नये मामले, 06 लोगों की मौत

आयुष्मान कार्डधारक हितग्राहियों को 5 लाख तक का नि:शुल्क उपचार योजना में सूचीबद्ध 768 अस्पतालों में मिल रहा है।  इन अस्पतालों में 319 निजी और 449 शासकीय अस्पताल शामिल हैं। योजना में 1578 उपचार पैकेज उपलब्ध है। इंदौर जिले में सर्वाधिक 8 लाख 87 हजार 647, जबलपुर जिले में 6 लाख 99 हजार 90 और भोपाल जिले में 6 लाख  68 हजार  500 आयुष्मान कार्ड बनाए गए। आयुष्मान कार्ड बनाने के अभियान में स्वास्थ्य विभाग,  लोक सेवा केंद्र, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के रोजगार सहायक और सचिवों का सहयोग प्राप्त किया जा रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।