विश्वासघात दिवस मना रहे किसान, राकेश टिकैत बोले- किसानों के साथ हुई वादाखिलाफी, घाव पर नमक छिड़कने का किया काम

Rakesh Tikait
प्रतिरूप फोटो
अनुराग गुप्ता । Jan 31, 2022 12:43PM
किसान नेता राकेश टिकैत ने हैशटैग विश्वासघात_दिवस का इस्तेमाल कर एक ट्वीट में लिखा कि देश के किसानों के साथ वादाखिलाफी कर किसानों के घाव पर नमक छिड़कने का काम किया गया है। किसानों के साथ हुए इस विश्वासघात से यह स्पष्ट है कि देश का किसान एक लंबे संघर्ष के लिए तैयार रहें।

नयी दिल्ली। भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने सोमवार को केंद्र सरकार पर एक भी वादा पूरा नहीं करने का आरोप लगाया। इसी के साथ ही किसान संगठन सोमवार को विश्वासघात दिवस मना रही है। दरअसल, केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी की अलग-अलग सीमाओं पर किसानों का एक साल से अधिक समय तक आंदोलन चला था। 

इसे भी पढ़ें: संसद में राष्ट्रपति कोविंद का अभिभाषण: किसानों से की गई रिकॉर्ड खरीदारी, सड़क से विकास के नए रास्ते खुले 

किसान नेता राकेश टिकैत ने हैशटैग विश्वासघात_दिवस का इस्तेमाल कर एक ट्वीट में लिखा कि देश के किसानों के साथ वादाखिलाफी कर किसानों के घाव पर नमक छिड़कने का काम किया गया है। किसानों के साथ हुए इस विश्वासघात से यह स्पष्ट है कि देश का किसान एक लंबे संघर्ष के लिए तैयार रहें।

इससे पहले राकेश टिकैत ने रविवार को कहा था कि केंद्र सरकार ने दिल्ली में जो भी वादा किया है उसे पूरा करें। हम चुनाव से अलग हैं हमारा एक मत है हम भी किसी को दे देंगे। मैं किसी का समर्थन नहीं कर रहा। जनता सरकार से ख़ुश होगी तो उन्हें वोट देगी, नाराज़ होगी तो किसी और को वोट देगी। 

इसे भी पढ़ें: मुजफ्फरनगर में बोले अमित शाह, गन्ने के भुगतान में देरी की स्थिति में किसानों को ब्याज सहित मिलेगा पैसा

गौरतलब है कि किसानों ने फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानूनी गारंटी समेत अन्य मांगों को लेकर एक साल से अधिक समय तक प्रदर्शन किया था। जिसके बाद केंद्र सरकार ने अपना रुख बदलते हुए केंद्रीय कृषि कानूनों को वापस ले लिया था और किसानों की समस्याओं के समाधान की बात कही थी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़