पंजाब के साथ विश्वासघात को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा , सांसद गुरजीत सिंह औजला

पंजाब के साथ विश्वासघात को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा , सांसद गुरजीत सिंह औजला

गुरजीत औजला ने कहा कि 1948 में देश के बंटवारे के बाद पंजाब को नई राजधानी चंडीगढ़ दी गई। इसके बाद 1966 में जब हरियाणा राज्य बना तो चंडीगढ़ को पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी घोषित किया गया। उन्होंने कहा कि पंजाब शुरू से ही मांग करता रहा है कि हमें अपनी स्वतंत्र राजधानी दी जाए और हरियाणा को नई राजधानी दी जाए।

चंडीगढ़ । चंडीगढ़ में पंजाब के सेवा नियमों के बजाय केंद्रीय नियमों को लागू करने के केंद्र के फैसले का पंजाब में व्यापक विरोध हो रहा है। इस बीच अमृतसर से सांसद गुरजीत सिंह औजला ने केंद्र सरकार के फैसले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि पंजाब के साथ विश्वासघात किया जा रहा है जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा हमारे संघ का दमन किया जा रहा है।

 

गुरजीत औजला ने कहा कि 1948 में देश के बंटवारे के बाद पंजाब को नई राजधानी चंडीगढ़ दी गई। इसके बाद 1966 में जब हरियाणा राज्य बना तो चंडीगढ़ को पंजाब और हरियाणा की संयुक्त राजधानी घोषित किया गया। उन्होंने कहा कि पंजाब शुरू से ही मांग करता रहा है कि हमें अपनी स्वतंत्र राजधानी दी जाए और हरियाणा को नई राजधानी दी जाए।

इसे भी पढ़ें: भाजपा का एकतरफा फैसला संघवाद पर सीधा हमला: सुखपाल खैरा

कांग्रेस सांसद ने कहा कि 1986 के राजीव-लोंगोवाल समझौते के तहत भी यह सहमति बनी थी कि पंजाब को चंडीगढ़ की राजधानी दी जाएगी। लेकिन 27 मार्च 2022 को केंद्रीय गृह मंत्री ने चंडीगढ़ में ऐलान किया कि पंजाब सिविल सर्विस एक्ट के तहत आने वाले चंडीगढ़ के कर्मचारी अब सेंट्रल रूल्स के तहत आएंगे. उन्होंने कहा, हम केंद्र के इस फैसले की कड़ी निंदा और विरोध करते हैं।

इसे भी पढ़ें: पंजाब सरकार घर-घर पहुंचाएगी राशन----भगवंत मान

उन्होंने कहा कि पंजाब के साथ हमेशा धोखा हुआ है। कभी बीएसएफ का दायरा बढ़ाया जाता है तो कभी केंद्र द्वारा बीबीएमबी में दखल दिया जाता है। इसके अलावा पंजाब विश्वविद्यालय और पंजाब कृषि विश्वविद्यालय में भी केंद्र ने अप्रत्यक्ष रूप से अपने कर्मचारियों को बरकरार रखा है और राज्यपाल की शक्तियों को बढ़ाया जा रहा है। गुरजीत औजला ने कहा कि पीएममोदी ने 2014 में कहा था कि हम संघवाद लाएंगे और संघीय ढांचे को मजबूत करेंगे लेकिन अब हमारे महासंघ को निचोड़ा जा रहा है। पंजाब के साथ विश्वासघात किया जा रहा है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...