अंडरगारमेंट में छिपा कर लाया मोबाइल और स्मार्ट वॉच, नकल करते पकड़ा गया छात्र

अंडरगारमेंट में छिपा कर लाया मोबाइल और स्मार्ट वॉच, नकल करते पकड़ा गया छात्र

एक छात्र भोपाल के संत हिरदाराम नगर स्थित बॉयज हायर सेकेंडरी स्कूल में पेपर दे रहा था। हैरान कर देने वाली बात यह थी कि छात्र ने कान में ब्लूटूथ लगा रखा था और उसके जरिए नकल कर रहा था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक छात्र ने अपना मोबाइल और स्मार्ट घड़ी अंडरगारमेंट के अंदर छिपा कर रखा था।

आपने मुन्नाभाई एमबीबीएस फिल्म तो देखीं होगी कि कैसे संजय दत्त कान में ब्लूटूथ लगाकर एग्जाम देता है और पकड़ा नहीं जाता। ऐसा इसलिए क्योंकि वो एक फिल्म थी लेकिन ऐसा ही एक मामला सच में हुआ है। मगंलवार को मध्य प्रदेश बोर्ड 10वीं का गणित का पेपर था। इस दौरान एक छात्र भोपाल के संत हिरदाराम नगर स्थित बॉयज हायर सेकेंडरी स्कूल में पेपर दे रहा था। हैरान कर देने वाली बात यह थी कि छात्र ने कान में ब्लूटूथ लगा रखा था और उसके जरिए नकल कर रहा था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक छात्र ने अपना मोबाइल और स्मार्ट घड़ी अंडरगारमेंट के अंदर छिपा कर रखा था। संभागीय संचालक लोक शिक्षण राजीव सिंह तोमर ने बताया कि, छात्र का नाम साजिद है और वह  प्राइवेट परीक्षार्थी के रूप में परीक्षा देने पहुंचा था। 

कैसे पकड़ा गया

एग्जाम सेंटर में जब निरीक्षण किया जा रहा था तभी साजिद को नकल करते पकड़ा गया। छात्र के सभी डिवाइस को जब्त कर लिया गया है और छात्र के खिलाफ परीक्षा में नकल और मोबाइल को इस्तेमाल करने के आरोप में मामला दर्ज कर दिया है। साथ ही परीक्षा केंद्राध्यक्ष और सहायक केंद्राध्यक्ष को एक नोटिस भेजा जवाब मांगा गया है। संचालक के मुताबिक, भोपाल जिले में मध्य प्रदेश बोर्ड की परीक्षा में इस डिवाइस के जरिए नकल करने का यह पहला मामला है। वहीं एग्जाम के लिए छात्रों को सख्त हिदायत दी गई थी। छात्रों के पेपर के दौरान स्वेटर, जूते, मौजे, कैप वगैरह की तलाशी भी ली जा रही है लेकिन उसके बावजूद छात्र सेंटर के अंदर मोबाइल और स्मार्ट वॉच लेकर पहुंच गए। इसी को लेकर अब केंद्र अध्यक्ष और सहायक केंद्र अध्यक्ष नोटिस भेज जवाब मांगा जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: भोपाल में शुरू हुई पहली म्यूजिक लाइब्रेरी, 20 से ज्यादा वाद्ययंत्र है मौजूद

सर्जरी कर कान में फिट किया माइक्रो ब्लूटूथ 

वहीं भोपाल से एक और मामला सामने आया है कि, इंदौर के एक मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस परीक्षा देने पहुंचे छात्र ने कान में एक माइक्रो ब्लूटूथ डिवाइस लगाया हुआ था जिससे वह एग्जाम में आसानी से नकल कर सके। इसकी जानकारी महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज के एक अधिकारी ने दी है।यह घटना 11 साल बाद हुई है और बताया जा रहा है कि, छात्र लगातार अपने लास्ट एग्जाम में फेल हो रहा था जिसके पास करने के लिए उसने यह आइडिया आजमाया।

कैसे पकड़ा गया छात्र 

मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ संजय दीक्षित ने कहा कि, "वह सोमवार को 78 अन्य छात्रों के साथ जनरल मेडिसिन की परीक्षा दे रहा था, तभी देवी अहिल्या बाई विश्वविद्यालय की डिप्टी रजिस्ट्रार रचना ठाकुर के नेतृत्व में एग्जाम का निरक्षण करने एक अधिकारी पहुंचा। टीम के एक सदस्य, डॉ विवेक साठे ने छात्र की तलाशी ली और उसकी पतलून की भीतरी जेब में एक मोबाइल फोन मिला। डॉ दीक्षित ने कहा कि फोन चालू था और ब्लूटूथ डिवाइस से जुड़ा था। हालांकि, टीम को छात्र के पास ब्लूटूथ डिवाइस नहीं मिला। लगातार पूछताछ करने पर, छात्र ने कबूल किया कि एक ईएनटी सर्जन ने उसके कान में एक त्वचा के रंग का माइक्रो ब्लूटूथ डिवाइस लगाया था। मामला आंतरिक परीक्षा समिति को भेज दिया गया है और वह तय करेगी कि परीक्षा में अनुचित साधनों का उपयोग करने के लिए पुलिस मामला दर्ज किया जाना चाहिए या नहीं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...