• दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर बाइक और ट्रैक्टर बैन,तैनात होंगे मार्शल :हादसों को रोकने के लिए NHAI ने उठाया कदम

मेरठ एक्सप्रेस-वे और ईस्टर्न पेरिफेरल पर दोपहिया और तीन पहिया वाहन दौड़ रहे हैं, जबकि इन सभी वाहनों को प्रतिबंधित किया गया है। ट्रैफिक पुलिस इन वाहनों पर जुर्माना लगाने के साथ सख्ती कर दे तो हादसों में कमी आ सकती है।

दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर लगातार हो रहे हादसे के बाद एनएचएआई खंड-चार (डासना से मेरठ) पर 10 मार्शल तैनात कर बाइक, बुग्गी, ट्रैक्टर और थ्री व्हीलर को बैन कर दिया गया है।दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर अब केवल कार-ट्रक और बसों का संचालन होगा।लगातार हो रहे हादसों को रोकने के लिए एनएचएआई ने यह कदम उठाया है। यही नहीं एक्सप्रेसवे पर वाहन विपरीत दिशा में न चल सके इसके लिए उतरने और चढ़ने वाले सभी प्वॉइंट पर मार्शलो की तैनाती कर, ट्रैफिक पुलिस को भी पत्र लिखा है। NHAI द्वारा गुरुवार से ऐसे वाहनों को दूसरे हाईवे से भेजना शुरू कर दिया है। ढाई महीने के दौरान मेरठ एक्सप्रेस-वे पर 42 हादसे हुए। इसमें 24 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि कई गंभीर रूप से घायल हुए। वहीं, सोमवार की रात ट्रक की टक्कर से पांच लोगों की मौत हो गई।

एनएचएआई के परियोजना निदेशक ने बताया कि मेरठ एक्सप्रेस-वे और ईस्टर्न पेरिफेरल पर दोपहिया और तीन पहिया वाहन दौड़ रहे हैं, जबकि इन सभी वाहनों को प्रतिबंधित किया गया है। ट्रैफिक पुलिस इन वाहनों पर जुर्माना लगाने के साथ सख्ती कर दे तो हादसों में कमी आ सकती है। उन्होंने बताया कि सभी टोल प्लाजा कर्मचारियों से दो टूक बोल दिया है कि प्रतिबंधित वाहनों को प्रवेश न दिए जाए। 

डासना अंडरपास, भोजपुर अंडरपास आदि स्थानों पर तैनात NHAI कर्मचारियों ने बताया कि इस एक्सप्रेस-वे पर सिर्फ चार पहिया गाड़ियों का संचालन हो सकता है। बाइक, बुग्गी, ट्रैक्टर, ऑटो-टेम्पो इस पर नहीं दौड़ सकते। एक्सप्रेस-वे शुरू होने के वक्त ही एनएचएआई ने इसकी गाइडलाइन जारी की थी, लेकिन लोग इस पर अमल नहीं कर रहे। इसलिए लोगों को जागरूक करके एक्सप्रेस-वे पर नहीं चलने की अपील की जा रही है। गुरुवार को कुछ वाहनों को अंडरपास से उतारकर मेरठ-मोदीनगर-गाजियाबाद हाईवे की तरफ मोड़ दिया गया। जल्द ही ऐसे वाहनों का संचालन पूरी तरह रोक दिया जाएगा। क्योकि वाहनों की तेज गति और विपरीत दिशा में चलने से अधिक हादसे हो रहे हैं। एनएचएआई ने हादसे रोकने के लिए योजना तैयार की है। एनएचएआई के परियोजना निदेशक मुदित गर्ग ने बताया कि खंड चार पर ज्यादा हादसे हुए हैं। डासना से मेरठ तक 10 मार्शल अगले एक या दो दिन में तैनात कर बाइक, बुग्गी, ट्रैक्टर और थ्री व्हीलर को बैन किए जाएंगे। एक्सप्रेस-वे पर वाहन चालक रास्ता न भटके इसमे मार्शल उनकी मदद करेंगे। आईएमएस कॉलेज के पास, डासना (जहां खंड चार शुरू होता है), सिकरोड इंटरचेंज, भोजपुर और मेरठ टोल प्लाजा पर मार्शल तैनात किए जाएंगे। आवश्यकता पड़ने पर अन्य खंड पर भी मार्शल तैनात करने की योजना है।

मुदित गर्ग ने बताया कि एक्सप्रेस-वे पर वाहन विपरीत दिशा में न चले इसके लिए ट्रैफिक पुलिस को पूर्व में चिट्टी लिखी गई थी जिसमे गलत दिशा में चलने वाले वाहनों के चालान काटने का अनुरोध किया गया था। उन्होंने बताया ट्रैफिक पुलिस को एक बार फिर से पत्र भेजा जा रहा है। इसमें अनुरोध किया जायगा कि गाजियाबाद सीमा में जितने भी एक्सप्रेस-वे के टोल प्लाजा हैं उन सभी पर एक-एक ट्रैफिक कॉन्स्टेबल को तैनात किया जाए। इसके अलावा उतरने और चढ़ने वाले स्थान पर भी पुलिस लगाई जाए। ऐसा होने से गलत दिशा में चलने वाले और प्रतिबंधित वाहनों को एक्सप्रेस-वे पर चढ़ने से रोका जा सकता है।