बीरभूम में हुई हिंसा में घायल हुए लोगों से रविवार को बात करेंगे सीबीआई के अधिकारी, गांव की सुरक्षा हुई सख्त

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 27, 2022   15:49
बीरभूम में हुई हिंसा में घायल हुए लोगों से रविवार को बात करेंगे सीबीआई के अधिकारी, गांव की सुरक्षा हुई सख्त

बीरभूम हिंसा को लेकर सीबीआई के अधिकारी अस्पताल में घायलों से बात करेंगे।केंद्रीय फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला के कर्मी अपनी जांच जारी रखेंगे।’’ अधिकारी ने कहा, ‘‘ग्रामीणों की एक सूची तैयार कर ली गई है, ताकि हमारे अधिकारी उनसे बात कर सकें।

रामपुरहाट (पश्चिम बंगाल)। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के अधिकारी पश्चिम बंगाल के बीरभूम में हुई हिंसा में घायल हुए लोगों से एक अस्पताल जाकर रविवार को बात करेंगे। एजेंसी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि सीबीआई के अधिकारी बीरभूम हिंसा की जांच के सिलसिले में स्थानीय लोगों से भी बातचीत करेंगे। सीबीआई के एक अधिकारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘हम हिंसा में घायल होने के बाद अस्पताल में इलाज करा रही एक महिला और तीन अन्य लोगों से उनका पक्ष जानने के लिए बात करेंगे। हम बोगतुई गांव में स्थानीय लोगों से भी बातचीत करेंगे।

इसे भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती के कश्मीर बयान पर संजय राउत ने भाजपा पर साधा निशाना

केंद्रीय फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला के कर्मी अपनी जांच जारी रखेंगे।’’ अधिकारी ने कहा, ‘‘ग्रामीणों की एक सूची तैयार कर ली गई है, ताकि हमारे अधिकारी उनसे बात कर सकें। हमने प्रशासन से उन लोगों का पता लगाने का अनुरोध किया है, जो गांव से भाग गए हैं।’’ उन्होंने कहा कि केंद्रीय एजेंसी के अधिकारी दमकल अधिकारियों से भी बातचीत करेंगे, ताकि यह पता लगाया जा सके कि उस रात क्या हुआ था। सीबीआई दल शुक्रवार देर रात रामपुरहाट पहुंचा था और उसने शनिवार सुबह पुलिस उपमहानिरीक्षक रैंक के एक अधिकारी के नेतृत्व में जांच शुरू कर दी। उल्लेखनीय है कि कुछ अज्ञात लोगों ने गत 21 मार्च को रामपुरहाट के पास बोगतुई गांव में 10 घरों में आग लगा दी थी, जिसमें महिलाओं और बच्चों समेत कम से कम आठ लोगों की जान चली गई थी। कलकत्ता उच्च न्यायालय ने बीरभूम हिंसा की जांच शुक्रवार को सीबीआई को सौंप दी थी और जांच में हुई प्रगति की रिपोर्ट जमा करने के लिए सात अप्रैल की समयसीमा तय की थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।