भाजपा ने दिल्ली सरकार से छठ पूजा के आयोजन पर लगा प्रतिबंध हटाने की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 12, 2021   16:08
भाजपा ने दिल्ली सरकार से छठ पूजा के आयोजन पर लगा प्रतिबंध हटाने की मांग की

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय राजधानी में छठ पूजा के आयोजन पर लगे प्रतिबंध के विरोध में यहां मंगलवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया।

नयी दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की दिल्ली इकाई के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय राजधानी में छठ पूजा के आयोजन पर लगे प्रतिबंध के विरोध में यहां मंगलवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया। इस बीच प्रदर्शन के दौरान भाजपा सांसद मनोज तिवारी घायल हो गए और उन्हें सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया। पार्टी नेता नीलकांत बख्शी ने बताया कि चोट उनके कान में लगी है। भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष आदेश गुप्ता और अन्य ने राष्ट्रीय राजधानी में लाखों पूर्वांचलियों द्वारा मनाए जाने वाले त्योहार के आयोजन पर प्रतिबंध लगाए जाने के लिए दिल्ली सरकार की निंदा की।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान आकर शेखावाटी क्षेत्र की हवेलियां नहीं देखीं तो समझिये कुछ नहीं देखा

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने 30 सितंबर को अपने आदेश में कोविड-19 के मद्देनजर नदी तटों, जलाशयों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा के आयोजन पर रोक लगा दी थी। हालांकि, गुप्ता ने सोमवार को कहा था कि छठ पूजा धूमधाम से मनायी जाएगी और भाजपा शासित नगर निगम इसकी व्यवस्था करेंगे।

इसे भी पढ़ें: सबरीमला प्रदर्शन मामला : केरल के मुख्यमंत्री ने प्रक्रियायों को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया

प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली सरकार से त्योहार के आयोजन पर लगा प्रतिबंध हटाने के लिए डीडीएमए को एक प्रस्ताव भेजने की मांग की। इससे पहले केजरीवाल ने कहा था कि लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को देखते हुए सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा के आयोजन पर रोक लगाने का फैसला किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।