महाराष्ट्र: सत्ता की खेल में BJP फेल, उद्धव ठाकरे का होगा राजतिलक

महाराष्ट्र: सत्ता की खेल में BJP फेल, उद्धव ठाकरे का होगा राजतिलक

राज्य में देवेंद्र फडणवीस नीत नवगठित भाजपा सरकार ने बहुमत साबित करने से पहले ही मंगलवार को इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद शिवसेना राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से सरकार बनाने का न्यौता पाने की हकदार हो गई है।

मुंबई। शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन ने शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद के लिए अपने उम्मीदवार के रूप में चुना। ठाकरे राज्य के शीर्ष राजनीतिक पद पर पहुंचने वाले अपने परिवार के पहले सदस्य होंगे। शिवसेना-राकांपा- कांग्रेस ने अपने गठबंधन को ‘महाराष्ट्र विकास आघाडी’ नाम दिया है। उद्धव ठाकरे 28 नवंबर को शिवाजी मैदान में मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे.

संजय राउत ने कहा कि हम सभी को आमंत्रित करेंगे, हम अमित शाह को भी आमंत्रित करेंगे।

उद्धव ठाकरे ने कहो कि मैं आप सभी द्वारा दी गई जिम्मेदारी को स्वीकार करता हूं। मैं अकेला नहीं हूं, लेकिन आप सभी मेरे साथ सीएम हैं। आज जो हुआ है वह वास्तविक लोकतंत्र है। हम सब मिलकर राज्य में किसानों के आंसू पोंछेंगे। हम इस महाराष्ट्र को एक बार फिर से उस महाराष्ट्र में बनाएंगे जिसका सपना छत्रपति शिवाजी महाराज ने देखा था।

शिवसेना प्रमुख और 'महा विकास संगठन' के सीएम उम्मीदवार उद्धव ठाकरे ने कहा कि मैंने राज्य का नेतृत्व करने का कभी सपना नहीं देखा था। मैं सोनिया गांधी और अन्य लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं। हम एक दूसरे पर विश्वास रखकर देश को एक नई दिशा दे रहे हैं। मैं देवेंद्र फड़नवीस द्वारा उठाए गए सभी सवालों का जवाब देने के लिए तैयार हूं। मैं किसी चीज से नहीं डरता। झूठ हिंदुत्व का हिस्सा नहीं है। जरूरत पड़ने पर तुम हमें गले लगाओ और जब जरूरत न हो तुम हमें छोड़ दो। आपने हमें दूर रखने की कोशिश की।

राकांपा प्रमुख शरद पवार ने कहा कि 'महा विकास अघडी' के तीन प्रतिनिधि आज राज्यपाल से मिलेंगे। 1 दिसंबर को मुंबई के शिवाजी पार्क में शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री उम्मीदवार और महा विकास अगाड़ी के नेता के रूप में उद्धव ठाकरे के नाम का प्रस्ताव सभी विधायकों ने सर्वसम्मति से पारित किया। एनसीपी प्रमुख शरद पवार उन्हें एक गुलदस्ता भेंट की है।

शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस के गठबंधन महा विकास अघडी के गठन के लिए शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने संकल्प लिया। राकांपा के नवाब मलिक और कांग्रेस के नितिन राउत ने इसका समर्थन किया। 

राकांपा कार्यकर्ता शिवसेना-कांग्रेस के संयुक्त तत्वाधान में पार्टी अध्यक्ष शरद पवार के आगमन पर महाराष्ट्र में महाराष्ट्र में केवल एक बाघ, शरद पवार शरद पवार है का नारा बुलंद किया।

शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस के विधायक होटल ट्राइडेंट में संयुक्त बैठक के लिए इकट्ठा हुए।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के कार्यकर्ता मुंबई में "अजीत दादा, हम आपसे प्यार करते हैं" के पोस्टर पकड़े हुए दिखाई दिए। अजीत पवार ने आज से पहले महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया।

राज्य में देवेंद्र फडणवीस नीत नवगठित भाजपा सरकार ने बहुमत साबित करने से पहले ही मंगलवार को इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद शिवसेना राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से सरकार बनाने का न्यौता पाने की हकदार हो गई है। भाजपा 105 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है। शिवसेना नेता ने कहा, ‘‘उद्धव ठाकरे मुंबई के होटल में शाम को होने वाली बैठक में तीनों पार्टियों के संयुक्त नेता चुने जाएंगे, ताकि सरकार बनाने का दावा पेश किया जा सके। इसके बाद शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(राकांपा) और कांग्रेस संयुक्त रूप से सरकार बनाने के लिए राज्यपाल के समक्ष संयुक्त पत्र सौंपेंगे।’’ राकांपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि तीनों पार्टियां-- शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस-- अधिकतर मुद्दों को सुलझा चुकी हैं।  उन्होंने कहा, ‘‘मैं नहीं समझता कि तीनों पार्टियां सरकार बनाने का दावा पेश करने में और समय लेंगी।’’ 

इसे भी पढ़ें: धनंजय की वापसी से जुड़ी NCP की घड़ी, बिगड़ा अजित का गेम और लौटा पवार का पावर

विधान भवन के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि फडणवीस के इस्तीफे की घोषणा के बाद उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार बुधवार को सदन के पटल पर शक्तिपरीक्षण कराने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘इसके बजाय राज्यपाल दूसरी सबसे बड़ी पार्टी शिवसेना को सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए आमंत्रित करेंगे।’’ अधिकारी के मुताबिक इसके लिए राज्यपाल को शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के संयुक्त बयान और विधायकों के हस्ताक्षर वाली सूची की जरूरत होगी।  शिवसेना के 56, राकांपा के 54 और कांग्रेस के 44 विधायकों की संयुक्त संख्या 154 होती है जबकि 288 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए केवल 145 सदस्यों की जरूरत है।  मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के तीन दिन बाद मंगलवार को देवेंद्र फडणवीस ने अपने इस्तीफे की घोषणा कर दी। उन्होंने कहा कि उप मुख्यमंत्री और राकांपा नेता अजित पवार के निजी कारणों से इस्तीफा देने के बाद भाजपा के पास सदन में बहुमत नहीं है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।