टीके खराब होने को लेकर झूठ की राजनीति कर रही है भाजपा: अशोक गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2021   15:52
टीके खराब होने को लेकर झूठ की राजनीति कर रही है भाजपा: अशोक गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में कोविड-19 रोधी टीकों के खराब होने को लेकर भाजपा के आरोपों को खारिज करते हुए शुक्रवार को कहा कि वह झूठ की राजनीति कर कोरोना योद्धाओं का मनोबल गिराने का प्रयास कर रही है।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में कोविड-19 रोधी टीकों के खराब होने को लेकर भाजपा के आरोपों को खारिज करते हुए शुक्रवार को कहा कि वह झूठ की राजनीति कर कोरोना योद्धाओं का मनोबल गिराने का प्रयास कर रही है। इसके साथ ही गहलोत ने राजस्थान में टीकों की 11.5 लाख खुराक खराब होने की मीडिया की खबरों को भी गलत बताया। गहलोत ने यहां एक बयान में कहा, ‘‘ राजस्थान में कोविड-19 टीकों की 11.5 लाख खुराक बर्बाद होने की खबर झूठी है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के पूर्व CM कमलनाथ बोले- भारत महान नहीं, भारत बदनाम है

कोविन सॉफ्टवेयर पर दर्ज आंकड़ों के मुताबिक 26 मई तक राज्य में 1,63,67,230 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। इसमें से 3.38 लाख खुराब हुई है, जो सिर्फ दो प्रतिशत है। यह टीका खराबी के राष्ट्रीय औसत से छह प्रतिशत तथा भारत सरकार द्वारा टीके खराबी की अनुमति सीमा से 10 प्रतिशत कम है।’’ गहलोत ने कहा, ‘‘ ऐसा लगता है कि महामारी के समय में जानबूझकर जनता को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है। हम सभी को साथ लेकर कोरोना वायरस से निपटने के लिए काम कर रहे हैं लेकिन भारतीय जनता पार्टी ऐसे झूठे आरोप लगाकर 14 महीने से दिन रात मेहनत कर रहे कोरोना योद्धाओं का मनोबल गिराने का प्रयास कर रही है।’’

इसे भी पढ़ें: साइना और श्रीकांत को लगा तगड़ा झटका, तोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई करने की उम्मीदें हुई खत्म

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस महामारी के समय में भाजपा द्वारा की जा रही झूठ की राजनीति को पूरा देश देख रहा है। गलत नीतियों के कारण वे टीका उपलब्ध कराने में नाकाम रहे जिसका ठीकरा राज्यों पर फोड़ना चाहते हैं। गहलोत ने कहा, ‘‘ मैं राजस्थान के विपक्षी नेताओं से अपील करूंगा कि वे तमाम तरह के विवाद पैदा करने की बजाय राज्य के हित को देखकर केंद्र पर दबाव बनाए, जिससे राज्य को अधिक टीके मिल सके। ’’ गहलोत ने कहा कि इसके साथ ही केंद्र सरकार पर निशुल्क टीकाकरण के लिए भी दबाव बनाएं। उन्होंने कहा कि टीके खराब होने के आंकड़े बढ़ा-चढ़ाकर बताने का यह मामला अन्य राज्यों में भी हुआ है। उनके अनुसार छत्तीसगढ़ में 30.2 प्रतिशत, झारखंड में 37.3 प्रतिशत टीके की खुराक होने का आरोप लगाया गया, जबकि दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने छत्तीसगढ़ में 0.95 प्रतिशत व झारखंड में 4.65 प्रतिशत टीके की खुराक खराब होने की जानकारी दी है।

गहलोत ने कहा कि केंद्र सरकार इन आंकड़ों को 30 प्रतिशत व 37 प्रतिशत बता रही है जबकि ये असल में 4.65 प्रतिशत व 0.95 प्रतिशत हैं। इस बीच, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी एक बयान में कहा कि राज्य में मात्र 3.38 लाख खुराक बर्बाद हुई है, जो कि उपयोग में ली गई कुल खुराक का मात्र दो प्रतिशत है। उल्लेखनीय है कि एक केंद्रीय मंत्री ने पिछले दिनों ट्वीट किया था कि राज्य में टीकों की 11.5 लाख खुराक बर्बाद हुई हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।