औवेसी के गढ़ को कमजोर करने की कोशिश में भाजपा, भगवा पार्टी ने झोंकी पूरी ताकत

औवेसी के गढ़ को कमजोर करने की कोशिश में भाजपा, भगवा पार्टी ने झोंकी पूरी ताकत

केरल में पार्टी अभी खड़ी हो रही है जबकि तमिलनाडु की बात करें तो वहां एआईएडीएमके के साथ गठबंधन कर आगे बढ़ने की कोशिश कर रही है। लेकिन पार्टी को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से काफी उम्मीदें है।

दक्षिण भारत में अपनी पकड़ को मजबूत करने के लिए भाजपा जी तोड़ मेहनत कर रही है। इसका असर हम ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन चुनाव में भी देख रहे हैं। इसको जीतने के लिए भगवा पार्टी ने पूरी तरह से कमर कस ली है। 1 दिसंबर को होने वाले चुनाव के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी है। पार्टी के दिग्गज नेता चुनाव प्रचार के लिए हैदराबाद पहुंच रहे हैं। लेकिन सवाल यह है कि आखिर हैदराबाद नगर निगम का चुनाव भाजपा के लिए इतना महत्वपूर्ण क्यों हो गया है? क्यों पार्टी नगर निगम के चुनाव को जीतने के लिए बड़े-बड़े नेताओं को मैदान में उतार रही है? इस सवाल का सबसे सटीक जवाब यह है कि पार्टी दक्षिण भारत में खुद को मजबूत करना चाहती है। फिलहाल भाजपा कर्नाटक में सत्ताधारी पार्टी है। लेकिन दक्षिण भारत के अन्य राज्यों में इसकी स्थिति बेहद ही कमजोर है।

केरल में पार्टी अभी खड़ी हो रही है जबकि तमिलनाडु की बात करें तो वहां एआईएडीएमके के साथ गठबंधन कर आगे बढ़ने की कोशिश कर रही है। लेकिन पार्टी को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से काफी उम्मीदें है। आंध्र प्रदेश में कांग्रेस और टीआरएस की स्थिति कमजोर होने के बाद भाजपा खुद को वहां मजबूत करने में लगी हुई है। वही, तेलंगाना में एक सीट पर कुछ दिन पहले हुए उपचुनाव में पार्टी की जीत ने यहां के कार्यकर्ताओं में उत्साह भर दिया है। इसी उत्साह का नतीजा है कि अब भाजपा ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम को जीतने के लिए पूरी मेहनत कर रही है। इसके अलावा भाजपा असदुद्दीन औवेसी को उनके ही घर में चुनौती देना चाहती है। इसका मकसद एआईएमआईएम को उसके ही गढ़ में कमजोर करना है। ऐसा करके भाजपा अपने लिए आगे की राह आसान करना चाहती है। 

इसे भी पढ़ें: आखिर कौन हैं AIMIM विधायक अख्तरुल इमान जिन्होंने शपथ के दौरान हिंदुस्तान बोलने से किया था इनकार

आलम यह है कि भाजपा ने इसके लिए बकायदा एक मेनिफेस्टो तक जारी कर दिया है। भाजपा ने वादा किया है कि वह महानगर में हाल के समय में बारिश से प्रभावित हर परिवार को 25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता, 100 यूनिट से कम खपत वाले परिवारों को नि:शुल्क बिजली, महानगर की बसों और मेट्रो ट्रेन में महिलाओं को मुफ्त में सफर की सुविधा देगी। हैदराबाद के नगर निकाय चुनावों के लिए जारी घोषणापत्र में पार्टी ने यह वादा किया है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की तरफ से जारी घोषणापत्र में कहा गया है कि केंद्र की सलाह के मुताबिक सभी को कोविड-19 टीका मुहैया कराया जाएगा। इसने कहा कि महानगर में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावी योजना तैयार की जाएगी, जिसमें महानगर में हर किसी को मुफ्त में वायरस की जांच की सुविधा मिलेगी। घोषणापत्र में नि:शुल्क पेयजल आपूर्ति, हर वर्ष तीन नये महिला थानों का निर्माण और महिलाओं के लिए हर एक किलोमीटर पर शौचालय का निर्माण, महामारी के दौरान ऑनलाइन शिक्षा तक पहुंच में आ रही दिक्कतों को देखते हुए सरकारी स्कूलों के छात्रों को नि:शुल्क टैबलेट का भी वादा किया गया है।

इसे भी पढ़ें: आया निकाय चुनाव बीजेपी-ओवैसी में सियासी तनाव, हैदराबाद में रोहिंग्या, शेरवानी और बिरयानी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में जीत के लिए पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी चुनाव प्रचार के लिए पहुंच रहे हैं। कार्यकर्ताओं से मुलाकात तो करेंगे ही, साथ ही साथ उन्होंने हैदराबाद में रोड शो तक कर डाला। यह भी खबर है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और देश के गृह मंत्री तथा भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह भी हैदराबाद में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचेंगे। योगी आदित्यनाथ के हैदराबाद में जाते ही ध्रुवीकरण की गुंजाइश तेज हो जाती है। हैदराबाद असदुद्दीन औवेसी का गढ़ माना जाता है। ऐसे में योगी आदित्यनाथ का वहां चुनावी सभा को संबोधित करना अपने आप में कई मायनों में महत्वपूर्ण हो जाता है। भाजपा ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम का चुनाव जीतकर ओवैसी के किले को ढाहना चाहती है। पार्टी के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र यादव, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी भी हैदराबाद में डेरा डाले हुए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।