औवेसी के गढ़ को कमजोर करने की कोशिश में भाजपा, भगवा पार्टी ने झोंकी पूरी ताकत

  •  अंकित सिंह
  •  नवंबर 27, 2020   20:53
  • Like
औवेसी के गढ़ को कमजोर करने की कोशिश में भाजपा, भगवा पार्टी ने झोंकी पूरी ताकत

केरल में पार्टी अभी खड़ी हो रही है जबकि तमिलनाडु की बात करें तो वहां एआईएडीएमके के साथ गठबंधन कर आगे बढ़ने की कोशिश कर रही है। लेकिन पार्टी को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से काफी उम्मीदें है।

दक्षिण भारत में अपनी पकड़ को मजबूत करने के लिए भाजपा जी तोड़ मेहनत कर रही है। इसका असर हम ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉरपोरेशन चुनाव में भी देख रहे हैं। इसको जीतने के लिए भगवा पार्टी ने पूरी तरह से कमर कस ली है। 1 दिसंबर को होने वाले चुनाव के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी है। पार्टी के दिग्गज नेता चुनाव प्रचार के लिए हैदराबाद पहुंच रहे हैं। लेकिन सवाल यह है कि आखिर हैदराबाद नगर निगम का चुनाव भाजपा के लिए इतना महत्वपूर्ण क्यों हो गया है? क्यों पार्टी नगर निगम के चुनाव को जीतने के लिए बड़े-बड़े नेताओं को मैदान में उतार रही है? इस सवाल का सबसे सटीक जवाब यह है कि पार्टी दक्षिण भारत में खुद को मजबूत करना चाहती है। फिलहाल भाजपा कर्नाटक में सत्ताधारी पार्टी है। लेकिन दक्षिण भारत के अन्य राज्यों में इसकी स्थिति बेहद ही कमजोर है।

केरल में पार्टी अभी खड़ी हो रही है जबकि तमिलनाडु की बात करें तो वहां एआईएडीएमके के साथ गठबंधन कर आगे बढ़ने की कोशिश कर रही है। लेकिन पार्टी को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से काफी उम्मीदें है। आंध्र प्रदेश में कांग्रेस और टीआरएस की स्थिति कमजोर होने के बाद भाजपा खुद को वहां मजबूत करने में लगी हुई है। वही, तेलंगाना में एक सीट पर कुछ दिन पहले हुए उपचुनाव में पार्टी की जीत ने यहां के कार्यकर्ताओं में उत्साह भर दिया है। इसी उत्साह का नतीजा है कि अब भाजपा ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम को जीतने के लिए पूरी मेहनत कर रही है। इसके अलावा भाजपा असदुद्दीन औवेसी को उनके ही घर में चुनौती देना चाहती है। इसका मकसद एआईएमआईएम को उसके ही गढ़ में कमजोर करना है। ऐसा करके भाजपा अपने लिए आगे की राह आसान करना चाहती है। 

इसे भी पढ़ें: आखिर कौन हैं AIMIM विधायक अख्तरुल इमान जिन्होंने शपथ के दौरान हिंदुस्तान बोलने से किया था इनकार

आलम यह है कि भाजपा ने इसके लिए बकायदा एक मेनिफेस्टो तक जारी कर दिया है। भाजपा ने वादा किया है कि वह महानगर में हाल के समय में बारिश से प्रभावित हर परिवार को 25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता, 100 यूनिट से कम खपत वाले परिवारों को नि:शुल्क बिजली, महानगर की बसों और मेट्रो ट्रेन में महिलाओं को मुफ्त में सफर की सुविधा देगी। हैदराबाद के नगर निकाय चुनावों के लिए जारी घोषणापत्र में पार्टी ने यह वादा किया है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की तरफ से जारी घोषणापत्र में कहा गया है कि केंद्र की सलाह के मुताबिक सभी को कोविड-19 टीका मुहैया कराया जाएगा। इसने कहा कि महानगर में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावी योजना तैयार की जाएगी, जिसमें महानगर में हर किसी को मुफ्त में वायरस की जांच की सुविधा मिलेगी। घोषणापत्र में नि:शुल्क पेयजल आपूर्ति, हर वर्ष तीन नये महिला थानों का निर्माण और महिलाओं के लिए हर एक किलोमीटर पर शौचालय का निर्माण, महामारी के दौरान ऑनलाइन शिक्षा तक पहुंच में आ रही दिक्कतों को देखते हुए सरकारी स्कूलों के छात्रों को नि:शुल्क टैबलेट का भी वादा किया गया है।

इसे भी पढ़ें: आया निकाय चुनाव बीजेपी-ओवैसी में सियासी तनाव, हैदराबाद में रोहिंग्या, शेरवानी और बिरयानी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में जीत के लिए पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी चुनाव प्रचार के लिए पहुंच रहे हैं। कार्यकर्ताओं से मुलाकात तो करेंगे ही, साथ ही साथ उन्होंने हैदराबाद में रोड शो तक कर डाला। यह भी खबर है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और देश के गृह मंत्री तथा भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह भी हैदराबाद में चुनाव प्रचार के लिए पहुंचेंगे। योगी आदित्यनाथ के हैदराबाद में जाते ही ध्रुवीकरण की गुंजाइश तेज हो जाती है। हैदराबाद असदुद्दीन औवेसी का गढ़ माना जाता है। ऐसे में योगी आदित्यनाथ का वहां चुनावी सभा को संबोधित करना अपने आप में कई मायनों में महत्वपूर्ण हो जाता है। भाजपा ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम का चुनाव जीतकर ओवैसी के किले को ढाहना चाहती है। पार्टी के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र यादव, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी भी हैदराबाद में डेरा डाले हुए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


CWC बैठक: चुनाव कार्यक्रम बढ़ा आगे, अब जून के आखिरी तक कांग्रेस को मिल जाएगा अध्यक्ष

  •  अनुराग गुप्ता
  •  जनवरी 22, 2021   15:57
  • Like
CWC बैठक: चुनाव कार्यक्रम बढ़ा आगे, अब जून के आखिरी तक कांग्रेस को मिल जाएगा अध्यक्ष

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव को जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है और जून के आखिरी तक कांग्रेस को नया अध्यक्ष मिल जाएगा।

नयी दिल्ली। कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संपन्न हुई। जिसमें तीन प्रस्ताव पर कार्यसमिति ने अपनी मुहर लगा दी है। बैठक के बाद पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस वार्ता में बताया कि संगठन चुनाव को लेकर केंद्रीय चुनाव समिति ने मई के आखिरी तक कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव करने का प्रस्ताव रखा था।  

इसे भी पढ़ें: CWC की बैठक: कांग्रेस अध्यक्ष समेत संगठन का चुनाव मई में कराने की संभावना 

सुरजेवाला ने आगे बताया कि कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्यों ने एकमत से अपने विचार रखते हुए कहा कि पांच राज्यों में जो चुनाव होने हैं उनकी प्रक्रिया चल रही होगी और मई मतदान हो रहे होंगे। इसीलिए एक महीने आगे तक कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव को बढ़ा दिया जाए। इसके लिए सदस्यों ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी से अनुरोध किया।

सुरजेवाला ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव को जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है और जून के आखिरी तक कांग्रेस को नया अध्यक्ष मिल जाएगा। वहीं, कांग्रेस संगठन महासचिव के.सी.वेणुगोपाल ने बताया कि कांग्रेस कार्यसमिति ने किसानों के साथ मजबूती से खड़े रहने का निर्णय किया। इसे लेकर हमने प्रस्ताव पास किया है। कार्यसमिति ने किसानों के आंदोलन का समर्थन करने के लिए ऊपर से नीचे के स्तर तक की कार्ययोजना तैयार की है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


CWC ने की मांग, अर्णब के व्हाट्सएप चैट को लेकर की जाए जेपीसी जांच

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   15:49
  • Like
CWC ने की मांग, अर्णब के व्हाट्सएप चैट को लेकर की जाए जेपीसी जांच

सीडब्ल्यूसी ने कहा कि व्हाट्सएप बातचीत मामले की जेपीसी जांच की जाए।सीडब्ल्यूसी की बैठक में व्हाट्सएप बातचीत मामले, कृषि कानूनों और कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण के मुद्दों को लेकर तीन अलग अलग प्रस्ताव पारित किए गए।

नयी दिल्ली।कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) ने ‘रिपब्लिक टीवी’ के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की कथित व्हाट्सएप बातचीत को राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करार दिया और कहा कि इस मामले की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच कराई जानी चाहिए। सीडब्ल्यूसी की बैठक में व्हाट्सएप बातचीत मामले, कृषि कानूनों और कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण के मुद्दों को लेकर तीन अलग अलग प्रस्ताव पारित किए गए। कांग्रेस कार्य समिति ने सरकार से तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने और कोरोना वायरस के टीके लगवा रहे स्वास्थ्यकर्मियों की चिंताओं को दूर करने के लिए आवश्यक उपाय करने और ‘मुनाफाखोरी’ रोकने का आग्रह किया।

इसे भी पढ़ें: देश में भाजपा को छोड़कर सभी राजनीतिक दल परिवारवाद से ग्रस्‍त: जेपी नड्डा

व्हाट्सएप बातचीत मामले का उल्लेख करते हुए प्रस्ताव में कहा गया है, ‘‘सरकारी गोपनीयता अधिनियम का उल्लंघन हुआ है तथा राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़ भी किया गया है। हम इसकी जेपीसी से जांच कराने की मांग करते हैं। जो लोग भी राजद्रोह के दोषी हैं, उन्हें कानून की जद में लाया जाना चाहिए और सजा दी जानी चाहिए।’’ कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने बताया कि संसद के आगामी सत्र में पार्टी समान विचारधारा वाले दलों के साथ मिलकर ‘किसान विरोधी कानूनों’ का विरोध करेगी और सरकार पर दबाव बनाएगी कि वह इन कानूनों को निरस्त करे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


अचानक बिगड़ी लालू यादव की तबीयत, सांस लेने में हो रही दिक्कत

  •  अंकित सिंह
  •  जनवरी 22, 2021   15:45
  • Like
अचानक बिगड़ी लालू यादव की तबीयत, सांस लेने में हो रही दिक्कत

लालू प्रसाद डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हृदयरोग, किडनी की बीमारी, किडनी में स्टोन, तनाव जैसी गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं। रांची के डॉक्टर लगातार दिल्ली के डॉक्टरों के संपर्क में है।

गुरुवार शाम राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की तबीयत अचानक बिगड़ गई। लालू यादव फिलहाल चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता हैं। बताया जा रहा है कि उन्हें अचानक सांस लेने में दिक्कत होने लगी। फिलहाल उनकी तबीयत स्थिर है और डॉक्टरों की गहन निगरानी में हैं। इस खबर के साथ ही लालू परिवार में बेचैनी बढ़ गई। लालू के छोटे पुत्र तेजस्वी यादव, पत्नी राबड़ी देवी और मीसा भारती भी रांची पहुंच रहे हैं।

आनन-फानन में लालू प्रसाद यादव की कोरोना टेस्ट करवाई गई जो कि नेगेटिव आई है। सूत्रों के मुताबिक लालू प्रसाद डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, हृदयरोग, किडनी की बीमारी, किडनी में स्टोन, तनाव जैसी गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं। रांची के डॉक्टर लगातार दिल्ली के डॉक्टरों के संपर्क में है। खबर आने के साथ झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन उनका हाल जानने अस्पताल पहुंचे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept