यूपी में भाजपा का पोस्टर वार, एक ओर सीएम योगी का विकास का गन्ना तो दूसरी ओर अखिलेश का जिन्ना कैक्टस

यूपी में भाजपा का पोस्टर वार, एक ओर सीएम योगी का विकास का गन्ना तो दूसरी ओर अखिलेश का जिन्ना कैक्टस

कुल मिलाकर देखें तो इस पोस्टर के जरिए भाजपा अखिलेश यादव पर जबरदस्त तरीके से पलटवार करते हुए दिखाई दे रही है और यह भी बताने की कोशिश कर रही है कि योगी सरकार में किस तरीके से विकास की परियोजनाएं तेज रफ्तार से चल रही है।

उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर अब वार-पलटवार का दौर शुरू हो चुका है। सियासी दल एक-दूसरे पर जमकर वार-पलटवार कर रहे हैं। इन सबके बीच आज भाजपा ने ट्विटर पर पोस्टर के जरिए समाजवादी पार्टी पर निशाना साधा है। अपनी पोस्टर के जरिए पार्टी ने अखिलेश यादव और योगी सरकार के बीच की तुलना की है। इस पोस्टर में अखिलेश यादव के कटीले कैक्टस की तुलना में सीएम योगी आदित्यनाथ के विकास का गन्ना दिखाया गया है। यह पोस्टर कार्टून के रूप में पेश किया गया है।

पोस्टर के एक हिस्से में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को दिखाया गया है जो कैक्टस को पानी दे रहे हैं। वहीं, दूसरी ओर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दिखाया गया है जो गन्ने के पौधे को पानी दे रहे हैं। अखिलेश यादव का कैक्टस सिर्फ समस्याओं और विभेदकारी नीतियों से पटा हुआ है तो वही योगी के गन्ने के पौधे में विकास की परियोजनाएं लगे पड़े हैं। अखिलेश यादव के कैक्टस का नाम जिन्ना रखा गया है जबकि योगी आदित्यनाथ के पौधे को गन्ने का नाम दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश कि बड़ी खबरें: औद्योगिक विकास मंत्री बोले, किसानों की मांगों का यथा संभव किया जाएगा निदान

दोनों के बीच के तुलना

इस पोस्टर में जहां अखिलेश के जिन्ना वाले कैक्टस में गुंडागर्दी, धर्मांतरण, परिवारवाद, भ्रष्टाचार, हिंदू घृणा, तुष्टीकरण, जिहाद और दंगा को रखा गया है तो वही योगी के गन्ने में डिफेंस कॉरिडोर, एयरपोर्ट राजा महेंद्र प्रताप यूनिवर्सिटी, मेडिकल पार्क, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, फिल्म सिटी, सबका साथ और सबका विकास को रखा गया है। कुल मिलाकर देखें तो इस पोस्टर के जरिए भाजपा अखिलेश यादव पर जबरदस्त तरीके से पलटवार करते हुए दिखाई दे रही है और यह भी बताने की कोशिश कर रही है कि योगी सरकार में किस तरीके से विकास की परियोजनाएं तेज रफ्तार से चल रही है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।