पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर बोले हरदीप पुरी, दूसरे राज्यों की तुलना में भाजपा शासित राज्य आधा वसूल रहे वैट

पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर बोले हरदीप पुरी, दूसरे राज्यों की तुलना में भाजपा शासित राज्य आधा वसूल रहे वैट
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि गैर-भाजपा शासित राज्य जितना वैट लगा रहे हैं, उसका आधा वैट भाजपा शासित राज्यों में लगाया गया है... पेट्रोल की कीमतों में भाजपा और गैर-भाजपा शासित राज्यों में 15-20 रुपए का अंतर है। उन्होंने कहा कि तेल की कीमतें 19.56 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 130 डॉलर प्रति बैरल हो गईं हैं।

नयी दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर केंद्र और कई राज्यों की सरकारें आमने-सामने हैं। इसी बीच केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सरकार का पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि गैर-भाजपा राज्यों की तुलना ही भाजपा शासित राज्य आधा वैट वसूल कर रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल पर केंद्र पहले 32 रुपये का एक्साइज शुल्क लेता था, जिसमें कटौती की गई है। 

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल पर केंद्र को भी कम करना चाहिए टैक्स, अजीत पवार बोले- CNG से राज्य को हुआ 1000 करोड़ रुपए का नुकसान 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि गैर-भाजपा शासित राज्य जितना वैट लगा रहे हैं, उसका आधा वैट भाजपा शासित राज्यों में लगाया गया है... पेट्रोल की कीमतों में भाजपा और गैर-भाजपा शासित राज्यों में 15-20 रुपए का अंतर है।

एक्साइज शुल्क में की गई है कटौती

उन्होंने कहा कि हम अभी भी महामारी से उबर नहीं पाए हैं, अभी भी 80 करोड़ लोगों को फ्री राशन दिया जा रहा है और वैक्सीनेशन जारी है। यूक्रेन-रूस विवाद चल रहा है...तेल की कीमतें 19.56 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 130 डॉलर प्रति बैरल हो गईं हैं। उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल पर केंद्र पहले 32 रुपए का एक्साइज शुल्क लेता था, जिसमें कटौती की गई है... केंद्र ने अपनी ज़िम्मेदारी ली है। राज्यों को भी ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी पर बरसी शिवसेना, कहा- पेट्रोल-डीजल के नाम पर गैर भाजपा शासित राज्यों के CMs को बनाया निशाना 

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यों के साथ की गई बैठक में पेट्रोल-डीजल का मुद्दा उठाया था। इस दौरान उन्होंने राज्यों से वैट/कर को कम करने की अपील की थी। जिसके बाद महाराष्ट्र सरकार ने केंद्र पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि देश में सभी को यह स्वीकार करना होगा कि तेल पर पहले केंद्र और फिर राज्यों द्वारा कर लगाया जाता है, इसलिए केंद्र को भी कर कम करना चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।