उत्तर प्रदेश में भाजपा की मुश्किलें नहीं हो रही कम, अब रीता बहुगुणा जोशी ने लखनऊ से बेटे के लिए मांगा टिकट

उत्तर प्रदेश में भाजपा की मुश्किलें नहीं हो रही कम, अब रीता बहुगुणा जोशी ने लखनऊ से बेटे के लिए मांगा टिकट

रीता बहुगुणा अपने बेटे के लिए लखनऊ कैंट से टिकट मांगा है। हालांकि ऐसा नहीं है कि रीता बहुगुणा जोशी ही सिर्फ ऐसी नेता हैं जिन्होंने अपने बेटे के लिए टिकट मांगा है। बीजेपी में ऐसे कई नेताओं की कतार है जो अपने बेटे को सेट करने में लगे हुए हैं। बताया जा रहा है कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी अपने बेटे के लिए टिकट मांगा था।

उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भाजपा के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। तीन वरिष्ठ मंत्री पहले ही इस्तीफा देखकर जा चुके हैं। जबकि कई विधायक लगातार पार्टी छोड़ रहे हैं। इन सबके बीच वरिष्ठ नेता रीता बहुगुणा जोशी ने भी पार्टी के सामने अपनी मांग रख दी है। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक रीता बहुगुणा जोशी ने अपने बेटे के लिए टिकट मांगा है। रीता बहुगुणा अपने बेटे के लिए लखनऊ कैंट से टिकट मांगा है। हालांकि ऐसा नहीं है कि रीता बहुगुणा जोशी ही सिर्फ ऐसी नेता हैं जिन्होंने अपने बेटे के लिए टिकट मांगा है। बीजेपी में ऐसे कई नेताओं की कतार है जो अपने बेटे को सेट करने में लगे हुए हैं। बताया जा रहा है कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी अपने बेटे के लिए टिकट मांगा था।

इसे भी पढ़ें: अलवर बलात्कार कांड ने प्रियंका गांधी और कांग्रेस के पाखंड को बेनकाब किया: भाजपा

रीता बहुगुणा जोशी कभी कांग्रेस की वरिष्ठ नेता रही थीं। वह कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष भी रह चुकी हैं। उन्होंने कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थामा था। लखनऊ कैंट से रीता बहुगुणा जोशी दो बार विधायक रह चुकी हैं। हालांकि वह इस वक्त सांसद है और विधायकी का चुनाव नहीं लड़ने का उन्होंने पहले ही ऐलान कर दिया है। हालांकि उस समय भी उत्तर प्रदेश भाजपा में हड़कंप मच गया था जब यह खबर आई थी कि रीता बहुगुणा जोशी भी समाजवादी पार्टी के संपर्क में हैं। खबर तो यह भी थी कि रीता बहुगुणा जोशी ने दिल्ली को यह संदेश पर पहुंचाया है कि अगर उनके पुत्र मयंक जोशी को टिकट ना मिला तो उनके पास दूसरे विकल्प पर भी हैं। हालांकि बाद में इस खबर को उनके मीडिया प्रभारी के द्वारा खारिज किया गया।

इसे भी पढ़ें: सुनिश्चित करें कि 2022 के विधानसभा चुनावों में भाजपा उम्मीदवारों की जीत दर्ज हो-मुख्यमंत्री

विधानसभा चुनाव में टिकट बंटवारे को लेकर भाजपा की बैठक लगातार हो रही है। जानकारी के मुताबिक जल्द ही भाजपा की सूची भी सामने आ सकती है। बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में जिन बड़े नेताओं ने अपने बेटों के लिए टिकट मांगा है उसमें भाजपा सांसद जगदंबिका पाल, केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य का भी नाम शामिल है। हालांकि इस खबर की पुष्टि अब तक नहीं हो सकी है। उत्तर प्रदेश की 403 सीटों के लिए 7 चरणों में चुनाव होने हैं। उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी, 14 फरवरी, 20 फरवरी, 23 फरवरी, 27 फरवरी, 3 मार्च और 7 मार्च को चुनाव होंगे। नतीजे 10 मार्च को आएंगे। विधानसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश की राजनीतिक हलचल फिलहाल बढ़ा हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।