भाजपा कार्यकर्ता की मां को बेरहमी से पीटा गया, स्मृति ईरानी बोलीं- मां की पीड़ा का जवाब बंगाल का 'मानुष' देगा

भाजपा कार्यकर्ता की मां को बेरहमी से पीटा गया, स्मृति ईरानी बोलीं- मां की पीड़ा का जवाब बंगाल का 'मानुष' देगा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार की देर रात को भाजपा कार्यकर्ता गोपाल मजूमदार के घर में घुसकर कुछ अज्ञात लोगों ने उनकी बुजुर्ग मां को बेरहमी से पीटा है। भाजपा कार्यकर्ता ने तृणमूल कांग्रेस पर इस हमले का आरोप लगाया है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। अब 24 परगना जिले में भाजपा के एक कार्यकर्ता और उसकी मां को बेरहमी से पीटा गया है। भाजपा ने आरोप लगाया है कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उनके कार्यकर्ता और उसकी मां के साथ ऐसा किया है। हालांकि, तृणमूल कांग्रेस ने इन आरोपों से इनकार किया है। 

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में महारैली में वाम नेताओं ने जनहित सरकार का आह्वान किया 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार की देर रात को भाजपा कार्यकर्ता गोपाल मजूमदार के घर में घुसकर कुछ अज्ञात लोगों ने उनकी बुजुर्ग मां को बेरहमी से पीटा है। भाजपा कार्यकर्ता ने तृणमूल कांग्रेस पर इस हमले का आरोप लगाया है। उनका दावा है कि तृणमूल कार्यकर्ता उनके घर में जबरन घुसे और उनकी मां को बेरहमी से पीटा। उन्होंने इसकी शिकायत पास के थाने में भी दर्ज कराई है।

इसे भी पढ़ें: चुनावी राज्यों में कांग्रेस की राह आसान नहीं, CAA और किसान आंदोलन को भुनाने की कवायद में जुटी पार्टी 

बुजुर्ग महिला की आपबीती

भाजपा ने कार्यकर्ता गोपाल मजूमदार की मां का एक वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर शेयर किया है। इस वीडियो में बुजुर्ग महिला के चेहरे पर चोट के गंभीर निशान देखे जा सकते हैं। शेयर किए गए वीडियो के मुताबिक बुजुर्ग महिला ने बताया कि मेरे सिर और गर्दन पर हमला किया और मुझे मुक्का मारा गया है। उन्होंने मेरे चेहरे पर भी मारा। मुझे डर लग रहा है, उन्होंने मुझसे किसी को भी इसके बारे में नहीं बताने के लिए कहा। मेरा पूरा शरीर दर्द में है।

बुजुर्ग महिला को बेरहमी से पीटे जाने की घटना की हर कोई निंदा कर रहा है। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि इस 'मां' की पीड़ा और पीड़ा का जवाब बंगाल का 'मानुष' देगा। आगामी चुनाव में बंगाल की 'माटी' तृणमूल के अत्याचारों से मुक्त होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।