बीकेयू नेता राकेश टिकैत के लिए ग्रामीण भोजन, पानी लेकर गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2021   20:06
बीकेयू नेता राकेश टिकैत के लिए ग्रामीण भोजन, पानी लेकर गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे

टिकैत ने सरकार से इंटरनेट सेवाएं भी बहाल करने का अनुरोध किया है, जिसे केंद्र ने दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन स्थलों पर शनिवार को निलंबित कर दिया है। उन्होंने कहा कि इंटरनेट सेवाएं बहाल होने पर किसान सोशल मीडिया पर अपने विचार और मांगें रख सकते हैं।

गाजियाबाद। नये कृषि कानूनों के खिलाफ जारी आंदोलन के प्रति अपना समर्थन प्रकट करते हुए भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत के लिए ग्रामीण मिट्टी के घड़े में पानी और घर का बना भोजन लेकर गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे। हालांकि, स्थानीय प्राधिकारों ने प्रदर्शन स्थल पर पेयजल के टैंकर भेजे हैं और शौचालय की भी व्यवस्था की है।

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलन को राजनेताओं ने किया हैक, राकेश टिकैत के जरिए हो रही 2022 की तैयारी

टिकैत ने सरकार से इंटरनेट सेवाएं भी बहाल करने का अनुरोध किया है, जिसे केंद्र ने दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन स्थलों पर शनिवार को निलंबित कर दिया है। उन्होंने कहा कि इंटरनेट सेवाएं बहाल होने पर किसान सोशल मीडिया पर अपने विचार और मांगें रख सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: पिता की विरासत संभाल रहे राकेश टिकैत, किसान आंदोलन कमजोर न पड़े इसीलिए छोड़ी थी पुलिस की नौकरी

गाजियाबाद के एक गांव से एक लड़का प्रदर्शन स्थल पर एक टिफिन लेकर पहुंचा, जिसमें घर में बनाये गये पराठे और अचार था। वह पानी लेकर भी आया था। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर, ग्रेटर नोएडा और मेरठ जैसे स्थानों सहित अन्य जगहों से कुछ ग्रामीण भी प्रदर्शनकारियों के लिए मिट्टी के घड़े में पानी और छाछ लेकर आए। प्रदर्शनकारियों को बृहस्पतिवार रात तक स्थान खाली करने का ‘अल्टीमेटम’ देने के बाद दो दिन पहले स्थानीय प्रशासन ने प्रदर्शन स्थल पर बिजली-पानी की आपूर्ति काट दी थी। इसके चलते, टिकैत ने यह कहा था कि वह तभी पानी पिएंगे जब किसान अपने गांवों से यह लेकर आएंगे, लेकिन आंदोलन जारी रखेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...