हिमाचल आते ही सोलन सेब मंडी में किसान नेता राकेश टिकैत से तू तू मैं मैं,पुलिस ने मामला सुलझाया

हिमाचल आते ही सोलन सेब मंडी में किसान नेता राकेश टिकैत से तू तू मैं मैं,पुलिस ने मामला सुलझाया

उन्होंने हिमाचल प्रदेश के किसानों व बागवानों से एकजुट होने का आग्रह किया । उन्होंने कहा कि यदि हिमाचल के सेब उत्पादकों व किसानों को लूटने से बचना है तो छोटे व्यापारियों व छोटी मंडियों को समर्थन देना जरूरी है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो अदानी व अंबानी ग्रुप किसानों को खा जाएगा। ये सभी चोर-लुटेरे हैं।

सोलन। अपनी हिमाचल या़त्रा पर आज सोलन पहुंचे भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के चौधरी राकेश टिकैत को अपने विरोध का सामना करना पडा। हालांकि बाद में मामला निपटा लिया गया। सोलन की सेब मंडी का दौरा किया। इन दिनों हिमाचल के सेब बागवान अपनी फसल की उचित कीमत मंडियों में नहीं मिल पाने की वजह से परेशान हैं। इसी के चलते शिमला जाने से पहले टिकैत कंडाघाट व सोलन में रूके। जहां किसान  संगठनों ने उनका स्वागत किया। हिमाचली टोपी के साथ स्वागत किया गया।

 

 

यहां पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी दावा कर रहे हैं कि 2022 में किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी। अगर वह ऐसा करते हैं तो हम प्रधानमंत्री मोदी का समर्थन करते हैं। उन्होंने कहा कि देश में कृषि मंत्रालय नहीं है जिसके चलते किसानो को लूटा जा रहा है। 18 मंत्रालय कृषि को देखते हैं। लेकिन सभी ठीक तरीके से कार्य नहीं कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: पद्मश्री सुभाष पालेकर की प्राकृतिक खेती करने की विधि से प्रेरित सुरेश कुमार ने प्राकृतिक खेती में पेश किया उदाहरण

उन्होंने हिमाचल प्रदेश के किसानों व बागवानों से एकजुट होने का आग्रह किया । उन्होंने कहा कि यदि हिमाचल के सेब उत्पादकों व किसानों को लूटने से बचना है तो छोटे व्यापारियों व छोटी मंडियों को समर्थन देना जरूरी है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो अदानी व अंबानी ग्रुप किसानों को खा जाएगा।  ये सभी चोर-लुटेरे हैं। उन्होंने कहा कि यदि जरूरत पड़ी तो हिमाचल प्रदेश में भी आंदोलन किया जाएगा। वह सेब बागवानों को कम दाम मिलने के मामले में किसानों से मिलेंगे। हिमाचल के टोल को फ्री करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसे भी बंद करवाया जाएगा। 

सोंलन मंडी में इसी दौरान एक आढ़ती ने राकेश टिकैत का विरोध किया जिससे माहौल गरमा गया। व माहौल तनावपूर्ण हो गया।  सेब मंडी में जब किसान नेता के समर्थन में नारेबाजी हो रही थी तो बीच में से एक   आढ़ती ने कहा कि यह नारे हिमाचल में नहीं चलेंगे। इस तरह की नारेबाजी करनी है तो दिल्ली में रहो। जैसे ही यह आवाज राकेश टिकैत के कानों में पड़ी तो उन्होंने उस  आढ़ती को अपने पास बुलाकर कहा कि हिमाचल किसी के बाप का नहीं है, यहां नारे भी लगेंगे और आंदोलन भी करेंगे। इस पर उस व्यक्ति ने सीधे ही राकेश टिकैत को बोल दिया कि हिमाचल आपके बाप का भी नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश सचिवालय सेवाएं कर्मचारी संगठन की कार्यकारिणी ने मुख्यमंत्री से भेंट की

इस पर किसान समर्थक भड़क गए। उन्होंने उस आढ़ती  को राकेश टिकैत से दूर कर दिया। राकेश टिकैत उस आढ़ती  पर काफी भड़क गए। माहौल काफी तनावपूर्ण बन गया व किसान नेता के समर्थक उस से धक्का मुक्की करने पर उतारू हो गए। लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस जवानों व अन्य लोगों ने माहौल शांत किया। राकेश टिकैत ने कहा सोलन समेत हिमाचल के अन्य किसान उनके साथ हैं, लेकिन यह जो नहीं चाहते हैं कि किसानों का भला हो वह ही ऐसी हरकतें कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।