BSF ने एक पाकिस्तानी स्मगलर को मार गिराया, 135 करोड़ की हेरोइन बरामद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 23, 2021   15:09
BSF ने एक पाकिस्तानी स्मगलर को मार गिराया, 135 करोड़ की हेरोइन बरामद

बीएसएफ के एक प्रवक्ता ने बताया कि घटना सीमा चौकी (बीओपी) हीरानगर सेक्टर के पंसार क्षेत्र की है। बीएसएफ जम्मू के कर्मियों ने बुधवार सुबह कठुआ में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास पाकिस्तानी तस्कर की मादक पदार्थों की तस्करी करने की कोशिश नाकाम कर दी।

जम्मू। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास बुधवार को मादक पदार्थों की तस्करी करने की कोशिश नाकाम करने का दावा करते हुए कहा कि उसने इस अभियान में एक पाकिस्तानी मादक पदार्थ तस्कर को मार गिराया है। अधिकारियों ने बताया कि इलाके में तलाशी अभियान के दौरान बीएसएफ ने 27 पैकेट हेरोइन बरामद की है, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में करीब 135 करोड़ रुपये कीमत है। बीएसएफ के एक प्रवक्ता ने बताया कि घटना सीमा चौकी (बीओपी) हीरानगर सेक्टर के पंसार क्षेत्र की है। बीएसएफ जम्मू के कर्मियों ने बुधवार सुबह कठुआ में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास पाकिस्तानी तस्कर की मादक पदार्थों की तस्करी करने की कोशिश नाकाम कर दी। सैनिकों ने पाकिस्तानी सीमा की ओर कुछ संदिग्ध गतिविधियां होते देखी।

इसे भी पढ़ें: भारत के इन 4 राज्यों में डेल्टा प्लस स्वरूप के करीब 40 मामले आए सामने

पाकिस्तानी तस्कर भारतीय सीमा क्षेत्र में दाखिल होने की कोशिश कर रहा था। उन्हें स्थिति को नियंत्रित करने के लिए गोली चलानी पड़ी। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ इलाके की तलाशी लेने पर, बाड़ के पास से पाकिस्तानी तस्कर का शव और हेरोइन के 27 पैकेट बरामद हुए। इसकी कीमत करीब 135 करोड़ रुपये है। इस मामले में ‘नार्को-आतंकवाद’ के पहलू से इनकार नहीं किया जा सकता।’’ प्रवक्ता ने बताया कि 23 जनवरी को बीएसएफ को 150 मीटर की एक भूमिगत सुरंग का पता चला था, जिसे बीओपी पंसार क्षेत्र में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान से आतंकवादियों की घुसपैठ में मदद देने के लिए बनाया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।