देशभर में घूमकर टिकैत मजबूत कर रहे जमीन, पर्दे के पीछे के इस दांव से कदमों के नीचे से खिंच न जाए कालीन

Tikait
अभिनय आकाश । Feb 24, 2021 12:57PM
राकेश टिकैत की बढ़ती सक्रियता और किसान आंदोलन को हाईजैक करने की कवायद कई किसान नेताओं को नागवार गुजर रही है। इसी क्रम में कुछ किसान नेताओं की सरकार के साथ पर्दे के पीछे से बातचीत की भी खबर है।

तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग के साथ किसान आंदोलन में एक चेहरा जो हर सभा, हर ललकार हर चेतावनी और पुकार में नजर आ रहा है और जिसकी चर्चा देशभर में है वो हैं किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत। करीब एक महीने से राकेश टिकैत अपने गृह राज्य उत्तर प्रदेश और हरियाणा समेत आधा दर्जन राज्यों में हुई किसानों की महापंचायत में शामिल हुए और इसके केंद्रबिन्दु भी बनकर सरकार को खुले मंच से ललकार भी चुके हैं। जिसके बाद कभी ये कहा जा रहा है कि किसान आंदोलन अब जाट आंदोलन में तब्दील हो चुका है तो कभी इसे टिकैत की बढ़ती महत्वकांक्षा का प्रतीक भी बताया जा रहै है। वहीं दिल्ली में हुई लाल किले की घटना और फिर प्रधानमंत्री मोदी के आह्वान के बाद से आंदोलन में शिरकत कर रहे कई किसान नेताओं ने फिलहाल अपनी दूरी बनाए रखी है। हर जगह अलग-अलग राज्यों में किसानों के साथ टिकैत ही पंचायत करते दिख रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: राकेश टिकैत ने सरकार से संसदीय समिति बनाने की कही बात, बोले- संसद के पास पार्क में करवाएं खेती

मोदी सरकार का पर्दे के पीछे का खेल

सूत्रों के अनुसार राकेश टिकैत की बढ़ती सक्रियता और किसान आंदोलन को हाईजैक करने की कवायद कई किसान नेताओं को नागवार गुजर रही है। इसी क्रम में कुछ किसान नेताओं की सरकार के साथ पर्दे के पीछे से बातचीत की भी खबर है। इस बात की भी खबर है कि कई किसान नेता कृषि कानून की वापसी वाले हट का त्याग करने को तैयार हैं जिसके एवज में उन्हें कानून को लेकर तमाम आपत्तियों पर सरकार कोई आश्वस्त करने वाला भरोसा दे सकती है। ऐसे में जिस तरह से पर्दे के पीछे वार्ता की खबरें सामने आ रही है तो आने वाले कुछ दिनों में कोई बड़ा सरप्राइज पैकेज सामने आ जाए तो कोई बड़ी बात नहीं होगी। 

इसे भी पढ़ें: कृषि कानून: प्रदर्शन कर रहे किसानों ने गीत गाते हुए 'पगड़ी संभाल दिवस' मनाया

टिकैत पड़ जाएंगे अकेले

कृषि कानूनों के खिलाफ राकेश टिकैत के आंदोलन को मजबूती तमाम किसान समर्थक गुटों के साथ आने से ही मिली थी। ऐसे में अगर कुछ और बड़े नामों को साथ लेकर सरकार अगर सहमति बनाने में कामयाब हो जाती है तो टिकैत के आंदोलन की ताकत क्या रह जाएगी इसका अंदाजा आप खुद लगा सकते हैं। राकेश टिकैत के लिए खुद के बूते पर देशभर में किसानों को साधकर साथ लाना असंभव सा है। ऐसे में देखना ये दिलचस्प होगा की इस तरह के अटकलों में कितना दम है। 

अन्य न्यूज़