केंद्र के कारण महाराष्ट्र में 18- 44 आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण नहीं हो सकेगा : कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2021   18:06
केंद्र के कारण महाराष्ट्र में 18- 44 आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण नहीं हो सकेगा : कांग्रेस

कांग्रेस ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि केंद्र के ‘‘लापरवाहीपूर्ण रवैये ’’ के कारण महाराष्ट्र में एक मई से 18-44 आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण नहीं हो सकेगा। इस माह की शुरूआत में केंद्र सरकार ने एक मई से समूची वयस्क आबादी के टीकाकरण की घोषणा की थी।

मुंबई। कांग्रेस ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि केंद्र के ‘‘लापरवाहीपूर्ण रवैये ’’ के कारण महाराष्ट्र में एक मई से 18-44 आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण नहीं हो सकेगा। इस माह की शुरूआत में केंद्र सरकार ने एक मई से समूची वयस्क आबादी के टीकाकरण की घोषणा की थी। लेकिन राज्य सरकार ने दो दिन बाद कहा कि इस तारीख से टीकाकरण शुरू नहीं किया जा सकता क्योंकि प्रदेश के पास पर्याप्त संख्या में टीके उपलब्ध नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें: मशहूर टीवी पत्रकार रोहित सरदाना का निधन, पीएम मोदी, अमित शाह सहित राजनीतिक जगत ने जताया शोक

राज्य के कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने ट्वीटर पर कहा, ‘‘एक मई से मोदी सरकार ने देश की 18-44 साल की युवा आबादी के टीकाकरण की घोषणा की थी। दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति ये है कि यह राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम शुरू नहीं हो सकेगा क्योंकि मोदी सरकार ने टीकों की आपूर्ति नहीं की है।’’

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोविड केयर सेंटरो को बहुउद्देश्यीय बनाने की कही बात

उन्होंने एक और ट्वीट में कहा,‘‘ ऐसे समय में जब विश्व में युद्ध स्तर पर टीकाकारण हो रहा है, और भारत में कोविड -19 के कारण मौतों का आंकड़ा बढ़ रहा है, मोदी सरकार की ऐसी लापरवाहीपूर्ण सोच एक अपराध है।’’ सावंत ने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक कह चुके हैं कि इस आयु वर्ग के लिए उनके राज्य में एक मई से टीकाकरण कार्यक्रम शुरू नहीं हो सकता क्योंकि टीकों का राज्य में अभाव है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।