रामायण सर्किट एक्सप्रेस के वेटरों की बदली पोशाक, संत समाज से मांगी माफी

रामायण सर्किट एक्सप्रेस के वेटरों की बदली पोशाक, संत समाज से मांगी माफी

रामायण सर्किट एक्सप्रेस में वेटरों की वेशभूषा का विरोध करने के बाद ड्रेस बदल दिया गया है। IRCTC दिल्ली के अधिकारियों ने विरोध करने वाले संत अवधेशपूरी को आमंत्रित किया है।

भोपाल। रामायण सर्किट एक्सप्रेस में वेटरों की वेशभूषा का विरोध करने के बाद ड्रेस बदल दिया गया है। IRCTC दिल्ली के अधिकारियों ने विरोध करने वाले संत अवधेशपूरी को आमंत्रित किया है। 12 दिसंबर को ट्रेन के आगमन पर संत को बुलाया गया है।

इसे भी पढ़ें:मनमोहन सरकार पर मनीष तिवारी का प्रहार, कहा- मुंबई हमले के बाद PAK पर कार्रवाई नहीं करना कमजोरी की निशानी 

दरअसल उज्जैन के परमहंस डॉ. अवधेशपुरी ने रेल मंत्री अश्विन वैष्णव को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि केन्द्र में धार्मिक पार्टी यानी बीजेपी की सरकार है। देश के यशश्वी प्रधानमंत्री मोदी का संतों के प्रति व हिन्दूधर्म और भगवान राम के प्रति अगाध निष्ठा रखते हैं। लेकिन उनके शासनकाल में और आप के कार्यकाल में ‘रामायण सर्किट एक्सप्रेस’ में साधु-संतों की वेशभूषा में वेटरों द्वारा यात्रियों को भोजन परोसवाना, उनकी झूठ उठाते हुए दिखाना घोर निंदनीय और असहनीय है। शायद आपकी आत्मा भी इस कृत्य को स्वीकार नहीं करेगी।

इसे भी पढ़ें:जेवर एयरपोर्ट का 25 नवंबर को शिलान्यास करेंगे PM मोदी, काले कपड़ों में नहीं होगी किसी की भी एंट्री 

वहीं धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आईआरसीटीसी की ओर से रामायण सर्किट एक्सप्रेस चलाई जा रही है। ट्रेन 7 नवंबर को प्रारंभ हुई जो कि भगवान राम से जुड़े हुए 15 स्थलों का भ्रमण करते हुए 7,500 किमी की यात्रा तय करेगी। उस ट्रेन में अयोध्या से रामेश्वरम के मध्य का यह दुर्भाग्यपूर्ण वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।