चारधाम श्रद्धालुओं के लिए बड़ी खबर, नहीं कराना होगा कोविड टेस्ट और वैक्सीन सर्टिफिकेट भी जरूरी नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2022   10:50
चारधाम श्रद्धालुओं के लिए बड़ी खबर, नहीं कराना होगा कोविड टेस्ट और वैक्सीन सर्टिफिकेट भी जरूरी नहीं
Google common license

उत्तराखंड सरकार ने शुक्रवार को साफ कर दिया है कि चारधाम श्रद्धालुओं की कोविड जांच, टीकाकरण प्रमाणपत्र की चेकिंग की अनिवार्यता नहीं है।बैठक में स्वास्थ्य सचिव और पर्यटन सचिव के अलावा पुलिस महानिदेशक, मंदिर समिति के पदाधिकारी तथा यात्रा से जुड़े सभी जिलों के जिलाधिकारी भी मौजूद रहे।

देहरादून। कोविड के बढ रहे मामलों के बीच तीन मई से शुरू हो रही चारधाम यात्रा से पहले उत्तराखंड सरकार ने शुक्रवार को साफ किया कि बाहर से राज्य में आने वाले यात्रियों और श्रद्धालुओं की कोविड जांच रिपोर्ट, टीकाकरण प्रमाणपत्र या इससे संबंधित अन्य किसी प्रकार की जांच की अनिवार्यता नहीं है। कोविड जांच को लेकर भ्रम की स्थिति दूर करने के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर यहां रात में एक बैठक में मुख्य सचिव एसएस संधु ने ये निर्देश दिए।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 1,607 नये मामले, दो की मौत

मुख्य सचिव ने चारधाम यात्रा के सफल संचालन के लिये निर्देश दिए कि अग्रिम आदेशों तक यात्रियों एवं श्रद्धालुओं को राज्य की सीमा पर होने वाली असुविधा एवं भीड से बचाव के दृष्टिगत कोविड-19 जांच, टीकाकरण प्रमाणपत्र या अन्य किसी प्रकार की चेकिंग की अनिवार्यता नहीं है। हांलांकि, उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं को उत्तराखंड पर्यटन विभाग द्वारा संचालित पोर्टल पर पंजीकरण करना अनिवार्य है। संधु ने अधिकारियों से इस संबंध में शासन एवं प्रशासन स्तर पर स्थिति का निरन्तर अनुश्रवण करने को भी कहा। बैठक में स्वास्थ्य सचिव और पर्यटन सचिव के अलावा पुलिस महानिदेशक, मंदिर समिति के पदाधिकारी तथा यात्रा से जुड़े सभी जिलों के जिलाधिकारी भी मौजूद रहे।

इसे भी पढ़ें: बीएसएफ ने पंजाब में भारत-पाकिस्तान सीमा के पास ड्रोन को मार गिराया

आगामी तीन मई को अक्षय तृतीया के पर्व पर उत्तरकाशी जिले में स्थित गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ ही इस वर्ष की चारधाम यात्रा शुरू हो जाएगी। रूद्रप्रयाग जिले में स्थित केदारनाथ के कपाट छह मई को जबकि चमोली जिले में स्थित बदरीनाथ मंदिर के कपाट आठ मई को श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे। पिछले दो सालों से कोविड-19 के कारण बंद रही चारधाम यात्रा में इस बार रिकार्ड श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। चारों धामों के आसपास तथा उनके मार्गों पर पडने वाले अधिकतर होटल और धर्मशालाएं यात्रा शुरू होने से पहले ही बुक हो चुके हैं जबकि पर्यटन विभाग के पोर्टल पर भी अब तक बडी संख्या में श्रद्धालु अपना पंजीकरण करवा चुके हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।