मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा, पिछली सरकार के मुकाबले कम हुए अपराध

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   16:03
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा, पिछली सरकार के मुकाबले कम हुए अपराध

योगी ने कहा कि उनकी सरकार ने 69 अग्निशमन केंद्र बनाए और 40 एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट भी गठित की हैं। साथ ही 218 पॉक्सो अदालतों का भी गठन किया है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बृहस्पतिवार को विधान परिषद में कहा कि पिछली सरकार के मुकाबले उनके कार्यकाल में अपराध कम हुए हैं। योगी ने राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि दुनिया का हर बड़ा निवेशक आज उत्तर प्रदेश में निवेश करना चाहता है, क्योंकि उसे मालूम है कि यहां की कानून-व्यवस्था बेहतर है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं वर्ष 2016-17 और 2020—21 में एनसीआरबी (राष्ट्रीय अपराध अभिलेख ब्यूरो) के तुलनात्मक आंकड़े दे रहा हूं। डकैती की घटनाओं में 65.72 प्रतिशत की कमी आई है। 

इसे भी पढ़ें: अपने पैरों पर खड़ा होने की कोशिश कर रही उत्तर प्रदेश कांग्रेस को राहुल ने दिया बड़ा झटका

लूट की घटनाओं में 66.15 प्रतिशत, हत्या की घटनाओं में 19.80 प्रतिशत, बलवे की घटना में 40.20 प्रतिशत और बलात्कार की घटनाओं में 45.43 प्रतिशत की कमी आई है। मुख्यमंत्री ने कहा, अगर 2016-17 और 2020-21 के बीच तुलनात्मक अध्ययन करेंगे तो शस्त्र अधिनियम के तहत 27.55 प्रतिशत अधिक कार्यवाही हुई है। एनडीपीएस एक्ट में 52.94 प्रतिशत, गैंगस्टर एक्ट में 31.09 प्रतिशत और रासुका में 19.57 प्रतिशत अधिक कार्यवाही हुई है। 

इसे भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ का पंजाब सरकार पर हमला, कहा- अपराधियों को संरक्षण क्यों दे रही

उन्होंने कहा कि ढांचागत सुविधाओं को देखें तो सरकार ने 59 नए थाने और 29 नई चौकियां बनाई हैं। इसके अलावा चार महिला थाने, आर्थिक अपराध के चार थाने, 10 विजिलेंस के थाने और 16 साइबर क्राइम के थाने बनाए गए। योगी ने कहा कि उनकी सरकार ने 69 अग्निशमन केंद्र बनाए और 40 एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट भी गठित की हैं। साथ ही 218 पॉक्सो अदालतों का भी गठन किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।