चित्रकूट विधायक ने रोपवे प्रबंधन को दी चेतावनी, कहा स्थानीय लोगों को दें रोजगार

चित्रकूट विधायक ने रोपवे प्रबंधन को दी चेतावनी, कहा स्थानीय लोगों को दें रोजगार

उद्घाटन कार्यक्रम में कलेक्टर, एसपी, एसडीएम, सीएमओ एवं दमोदर रोपवे के अधिकारी मौजूद थे। लेकिन प्रशासन ने क्षेत्रीय विधायक को उद्घाटन कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया था। इसी बात से नाराज चल रहे विधायक ने हनुमान धारा पहुंच कर रोपवे कर्मचारियों को चेतावनी दी है।

सतना। मध्य प्रदेश के सतना जिले की चित्रकूट विधानसभा से विधायक निलांशु चतुर्वेदी ने हनुमानधारा में दामोदर रोपवे के संचालक कंपनी के अधिकारियों को चेतावनी दी है कि अगर यहाँ स्थानीय लोगों को रोजगार नहीं दिया गया तो वह रोपवे नहीं चलने देंगे। उल्लेखनीय है कि दीपावली से पहले 09 नवम्बर को रोपवे का लोकार्पण सतना सांसद गणेश सिंह द्वारा किया गया था। सांसद गणेश सिंह भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं, लिहाजा कांग्रेस विधायक नीलांशु चतुर्वेदी की धमकी को राजनीतिक तौर से भी देखा जा रहा है। सवाल हो रहा है कि चित्रकूट विधायक स्थानीय लोगों को रोजगार मुहैया कराने का मुद्दा उठाकर रोपवे प्रबंधन पर निशाना साध रहे हैं अथवा उनका निशाना भाजपा नेता और भाजपा सरकार पर है। 

 

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन से प्रभावित पुजारियों और केशकारों की पूर्व मंत्री ने की आर्थिक सहायता

दरआसल चित्रकूट के हनुमान धारा में सांसद गणेश सिंह के द्वारा दमोदर रोपवे का उद्घाटन किया था। उद्घाटन कार्यक्रम में कलेक्टर, एसपी, एसडीएम, सीएमओ एवं दमोदर रोपवे के अधिकारी मौजूद थे। लेकिन प्रशासन ने क्षेत्रीय विधायक को उद्घाटन कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया था। इसी बात से नाराज चल रहे विधायक ने हनुमान धारा पहुंच कर रोपवे कर्मचारियों को चेतावनी दी है। विधायक के करीबी सूत्रों की माने तो हनुमान धारा राजघराने का है। रोपवे की सौगात भी चित्रकूट विधायक के प्रयास से ही मिली है। लेकिन सत्ता के चले जाने से उद्घाटन कार्यक्रम में विधायक की अनदेखी की गई है। जिससे कांग्रेस विधायक नाराज चल रहे हैं।

 

इसे भी पढ़ें: खाद के लिए परेशान हो रहे किसान, लगी लम्बी-लम्बी लाइनें

वही रोपवे कर्मचारी की माने तो 90% कर्मचारी स्थानीय ही रहेंगे, लेकिन कांग्रेस और भाजपा के लोगों के कारण महौल खराब हो रहा। क्षेत्रीय विधायक कांग्रेस के है तो कांग्रेस के लोग अपने समर्थक लोगों को नौकरी में रखना चाहते हैं, वहीं भाजपा के कुछ क्षेत्रीय नेता अपने समर्थको को नौकरी दिलाने की सिफारिश कर रहें हैं। जबकि विधायक निलांशु चतुर्वेदी का रोपवे प्रबंधन से स्थानीय लोगों को रोजगार दिलाने की चेतावनी देने पर अब  क्षेत्रीय लोग विधायक से सवाल कर रहे है कि 10 साल से नगर पंचायत में राज करने वाले विधायक जी नगर पंचायत में खाली पड़ी नौकरियों को क्यों नहीं भर पा रहे। ज्ञात हो कि 2016-17 में चित्रकूट नगर पंचायत ने 41 पदों के लिए आवेदन मांगे थे। 41 पद डेली बेस और मस्टर कर्मचारियों के थे। लगभग एक सैकडा से ज्यादा युवाओं ने आवेदन जमा भी किये, लेकिन आज दिनांक तक भर्ती नहीं की गई। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।