CJI एनवी रमण ने तिरुपति मंदिर में की पूजा-अर्चना, वैकुंठ द्वारम की परिक्रमा की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 13, 2022   12:19
CJI एनवी रमण ने तिरुपति मंदिर में की पूजा-अर्चना, वैकुंठ द्वारम की परिक्रमा की

सीजेआई न्यायमूर्ति रमण ने भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में पूजा अर्चना की है।अधिकारी ने बताया कि न्यायमूर्ति रमण बुधवार रात यहां पूजा अर्चना करने पहुंचे। उन्होंने पीटीआई को बताया कि न्यायमूर्ति रमण यहां पहाड़ी पर स्थित अत्यधिक सुरक्षा वाले टीटीडी अतिथिगृह में कल रात रूके थे औरआज सुबह उन्होंने मंदिर में पूजा की।

तिरुपति (आंध्रप्रदेश)। भारत के प्रधान न्यायधीश न्यायमूर्ति एन वी रमण ने बृहस्पतिवार को वैकुंठ एकादशी के अवसर पर तिरुमला के निकट स्थित भगवान वेंकटेश्वर के मंदिर में पूजा अर्चना की। मंदिर के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि भगवान वेंकटेश्वर की पूजा करने के बाद, न्यायमूर्ति रमण पारंपरिक रूप से पवित्र मार्ग से परिक्रमा की, जिसे वैकुंठ द्वारम कहा जाता है। यह मार्ग मंदिर के आंतरिक गर्भगृह के चारों ओर है, जो वर्ष में केवल एक बार वैकुंठ एकादशी के दिन खोला जाता है। अधिकारी ने बताया कि न्यायमूर्ति रमण बुधवार रात यहां पूजा अर्चना करने पहुंचे। उन्होंने पीटीआई को बताया कि न्यायमूर्ति रमण यहां पहाड़ी पर स्थित अत्यधिक सुरक्षा वाले टीटीडी अतिथिगृह में कल रात रूके थे औरआज सुबह उन्होंने मंदिर में पूजा की।

इसे भी पढ़ें: फिरोजाबाद की शिकोहाबाद विधानसभा से विधायक मुकेश वर्मा ने भाजपा से दिया इस्तीफा

अधिकारी ने बताया कि वहां से रवाना होने से पहले न्यायमूर्ति रमण ने मंदिर परिसर के बाहर निकाले गए भगवान वेंकटेश्वर के स्वर्ण रथ जुलूस में भी हिस्सा लिया। उन्होंने बताया कि बाद में न्यायमूर्ति रमण ने तिरुचानूर में देवी पद्मावती के मंदिर में भी पूजा अर्चना की। अधिकारी ने कहा कि मंदिर पहुंचने पर टीटीडी बोर्ड के अध्यक्ष वाईवी सुब्बा रेड्डी, कार्यकारी अधिकारी केएस जवाहर रेड्डी और अन्य ने रमण का गर्मजोशी से स्वागत किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।