गुजरात ट्रक हादसे में 15 मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री रूपाणी ने 2-2 लाख के मुआवजे का ऐलान किया

  •  अनुराग गुप्ता
  •  जनवरी 19, 2021   10:34
  • Like
गुजरात ट्रक हादसे में 15 मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री रूपाणी ने 2-2 लाख के मुआवजे का ऐलान किया

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने दुख जताया। इस दौरान उन्होंने आर्थिक मुआवजे का भी ऐलान किया। बता दें कि मुख्यमंत्री रूपाणी ने सूरत में हुए हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों को 2 लाख रुपए की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की।

नयी दिल्ली। गुजरात के सूरत में बड़ा ट्रक हादसा हुआ है। बता दें कि ट्रक हादसे में 15 मजदूरों की मौत हो गई। पुलिस अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक हादसा सूरत से करीब 60 किमी दूर कोसांबा गांव के पास हुआ। मारे गए सभी प्रवासी मजदूर राजस्थान से थे। वहीं, इस मामले में राजस्थान के मुख्यमंत्री का भी बयान सामने आ गया है।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक ट्रक हादसे में जान गंवाने वालों के परिवार के प्रति मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सांत्वना व्यक्त की है। इसके साथ ही घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। 

इसे भी पढ़ें: गुजरात के सूरत में बड़ा सड़क हादसा, ट्रक की चपेट में आने से 13 प्रवासी मजदूरों की हुई मौत 

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने हादसे पर दुख जताया। इस दौरान उन्होंने आर्थिक मुआवजे का भी ऐलान किया। बता दें कि मुख्यमंत्री रूपाणी ने सूरत में हुए हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों को 2 लाख रुपए की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की। पुलिस ने बताया कि किम-मांडवी मार्ग पर सो रहे मजदूरों को ट्रक ने कुचल दिया। इनमें से 12 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई वहीं आठ घायलों में से तीन ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि ट्रक चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


किसानों को गुमराह करना पाप,न मंडियां बंद होंगी न एमएसपी पर खरीद: योगी आदित्यनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2021   20:51
  • Like
किसानों को गुमराह करना पाप,न मंडियां बंद होंगी न एमएसपी पर खरीद: योगी आदित्यनाथ

उन्होंने केहा कि करार वैकल्पिक है न कि बाध्यकारी, इन सबके बावजूद कुछ लोग किसानों को भ्रमित कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने किसानों को आश्वस्त करते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा है कि प्रदेश में न तो कृषि उपज मंडी बंद होगी, न ही न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसल की खरीद बंद होने वाली है।

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि कृषि कानूनों के नाम पर किसानों को गुमराह करना पाप है और नए कृषि कानून किसानों की राय से बने हैं, जिसमें किसानों का हित पूरी तरह सुरक्षित है। योगी ने कहा कि किसानों की जमीन उनकी ही रहेगी और करार सिर्फ उपज का होगा। उन्होंने केहा कि करार वैकल्पिक है न कि बाध्यकारी, इन सबके बावजूद कुछ लोग किसानों को भ्रमित कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने किसानों को आश्वस्त करते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा है कि प्रदेश में न तो कृषि उपज मंडी बंद होगी, न ही न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसल की खरीद बंद होने वाली है।

योगी ने विधानसभा में बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान कहा कि न्यून्तम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर खरीद का नियम भले ही दशकों पहले बना दिया गया हो, लेकिन क्रय केंद्रों का इंतजाम नहीं किया गया और अब न केवल मंडियों को तकनीक से जोड़ा जा रहा है, बल्कि किसानों को अपनी वन नेशन-वन मंडी की अवधारणा के साथ उनकी इच्छानुसार कहीं भी उपज बेचने की व्यवस्था दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मंडियों को बंद करना होता तो सरकार लगातार उनका आधुनिकीकरण नहीं करती। प्रदेश सरकार 27 मंडियों को आधुनिक किसान मंडियों के रूप में विकसित कर रही है। उन्होंने कहा कि किसान कानून के हवाले से भ्रमजाल रचते हुए कुछ लोग एमएसपी खत्म होने की बात कह रहे हैं, जबकि किसान जानता है कि यही वह सरकार है जिसने हर साल एमएसपी में बढ़ोतरी की। उन्होंने कहा कि मक्का के लिए भी एमएसपी की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के दौरान जब पूरी दुनिया ठप पड़ गयी थी, उस दौरान भी हमने किसानों के हितों का पूरा ख्याल रखा और हमने गेहूं की खरीद की।

इसे भी पढ़ें: UP में धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध विधेयक पास, CM योगी बोले- टोपी देखकर ढाई साल के बच्चे ने कहा-ये देखो गुंडा

उन्होंने कहा कि इसी दौरान 37 गोदामों का शिलान्यास हुआ और किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए मंडी शुल्क को दो प्रतिशत से घटाकर एक फीसद किया गया। योगी ने कहा कि 45 जिंसों पर मंडी शुल्क माफ किया और इस दौरान जब देश की आधे से अधिक चीनी मिलें बंद थी उस समय भी प्रदेश की सभी 119 चीनी मिलें चलीं और 31 करोड़ कुंतल गन्ने की पेराई कर किसानों को 5954 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया। उन्होंने कहा कि इसी दौरान सरकार ने किसान कल्याण मिशन के नाम से एक महत्वाकांक्षी कार्यक्रम शुरू किया और किसानों के हित के लिए इस वर्ष आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजनाशुरू की गई है। योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई में केंद्र और राज्य सरकार किसानों के हित के लिए प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दुर्भाग्य से विपक्ष को ये सब काम नहीं दिखते, दरअसल इन लोगों ने किसानों को सिर्फ वोट बैंक समझा उनके हित में कभी काम ही नहीं किया और अब जब केंद्र और प्रदेश सरकार किसानों के हितों के प्रति संकल्पित है तो इनके पेट में दर्द हो रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


महाराष्ट्र में कोरोना के 8000 से अधिक नये मामले, 80 और मरीजों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2021   20:44
  • Like
महाराष्ट्र में कोरोना के 8000 से अधिक नये मामले, 80 और मरीजों की मौत

विभाग ने कहा कि दिन में 80 और मरीजों की मौत होने की जानकारी सामने आयी जिससे राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 51,937 हो गई। राज्य में कोविड-19 के सामने आने वाले मामलों में बढ़ोतरी हुई है क्योंकि राज्य में कोविड-19 के 6,218 नये मामले सामने आये थे।

मुंबई। महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि बुधवार को भी जारी रही और राज्य में संक्रमण के 8,807 नये मामले सामने आये जिससे संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 21,21,119 हो गई। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग ने दिये। विभाग ने कहा कि दिन में 80 और मरीजों की मौत होने की जानकारी सामने आयी जिससे राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 51,937 हो गई। राज्य में कोविड-19 के सामने आने वाले मामलों में बढ़ोतरी हुई है क्योंकि राज्य में कोविड-19 के 6,218 नये मामले सामने आये थे।

अधिकारियों ने बताया कि 80 मौतों में से 27 मौतें पिछले 48 घंटे में हुईं जबकि 22 मौतें पिछले सप्ताह हुई थीं। बाकी 31 मौतें उससे पहले की अवधि के दौरान हुई थीं। बुधवार को 2,772 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई जिससे राज्य में अभी तक ठीक हुए मरीजों की संख्या बढ़कर 20,08,623 हो गई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


बृहस्पतिवार को पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे जेपी नड्डा, कई कार्यक्रमों में करेंगे शिरकत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2021   20:28
  • Like
बृहस्पतिवार को पश्चिम बंगाल का दौरा करेंगे जेपी नड्डा, कई कार्यक्रमों में करेंगे शिरकत

इन कार्यक्रमों के अलावा नड्डा पश्चिम बंगाल स्टेट आर्म्ड पुलिस हेडक्वार्टर्स में शहीद मंगल पांडे स्तंभ पर श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे और ‘लोक्खो सोनार बांग्ला बुद्धिजीवी वर्ग की एक बैठक को भी संबोधित करेंगे। पश्चिम बंगाल में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं।

नयी दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बृहस्पतिवार को पश्चिम बंगाल में चुनावी घोषणा पत्र तैयार करने संबंधी एक अभियान की शुरुआत करेंगे और एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे। पार्टी के मीडिया विभाग के राष्ट्रीय प्रभारी अनिल बलूनी ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस चुनावी राज्य के अपने एकदिवसीय दौरे पर नड्डा कई कार्यक्रमों में भाग लेंगे। बलूनी ने कहा, ‘‘नड्डा बृहस्पतिवार को कोलकाता में ‘लोक्खो सोनार बांग्ला घोषणापत्र क्राउडसोर्सिंग’ कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे।’’

ज्ञात हो कि भाजपा नेता पश्चिम बंगाल के अपने हालिया दौरों में राज्य को ‘‘सोनार बांग्ला’’ के रूप में पुन: स्थापति करने का वादा करते रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष राष्ट्रीय गीत ‘‘वंदे मातरम’’ की रचना करने वाले बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय के आवास और संग्रहालय जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। अपने इस दौरे के दौरान नड्डा दोपहर का भोजन एक जूट मिल मजदूर के घर पर करेंगे। वह बैरकपुर स्थित आनंदपुरी खेलर मठ जायेंगे और वहां कालीबाड़ी मंदिर में पूजा-अर्चना करेंगे। नड्डा नबद्वीप जोन की परिवर्तन यात्रा की एक रैली को भी संबोधित करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा राजस्थान कोर कमेटी की बैठक संपन्न, जेपी नड्डा दो मार्च को जाएंगे जयपुर

वह प्रसिद्ध बांग्ला साहित्यकार बिभूतिभूषण बंदोपाध्याय के पैतृक घर जायेंगे और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। इन कार्यक्रमों के अलावा नड्डा पश्चिम बंगाल स्टेट आर्म्ड पुलिस हेडक्वार्टर्स में शहीद मंगल पांडे स्तंभ पर श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे और ‘लोक्खो सोनार बांग्ला बुद्धिजीवी वर्ग की एक बैठक को भी संबोधित करेंगे। पश्चिम बंगाल में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept