गोरखपुर को CM योगी की सौगात, 144 करोड़ की परियोजनाओ का किया लोकार्पण और शिलान्यास, कही यह अहम बात

गोरखपुर को CM योगी की सौगात, 144 करोड़ की परियोजनाओ का किया लोकार्पण और शिलान्यास, कही यह अहम बात
प्रतिरूप फोटो
Twitter

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई प्रशासनिक अधिकारी नियमित रूप से एक घंटा जनता की समस्या के निस्तारण के लिए बैठ जाए तो मुझे लगता है कि हम समाज की तमाम विवाद खत्म कर सकते हैं। सबकी सुनवाई हो, सबको न्याय मिले, हर व्यक्ति सुरक्षित महसूस करे, ये किसी भी सरकार का ध्येय होता है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को गोरखपुर के दिग्विजय नाथ पार्क में आज सड़क, संपर्क मार्ग, बाढ़ सुरक्षा एवं शिक्षा आदि की 144 करोड़ रुपए की 100 विकास परियोजनाओ का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस अवसर पर भाजपा नेता रवि किशन समेत कई पदाधिकारी मौजूद रहे। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे कार्य दूसरे दिन भी जारी 

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई प्रशासनिक अधिकारी नियमित रूप से एक घंटा जनता की समस्या के निस्तारण के लिए बैठ जाए तो मुझे लगता है कि हम समाज की तमाम विवाद खत्म कर सकते हैं। सबकी सुनवाई हो, सबको न्याय मिले, हर व्यक्ति सुरक्षित महसूस करे, ये किसी भी सरकार का ध्येय होता है।

उन्होंने कहा कि अगर हम विकास कार्यों की लंबी चौड़ी बात करें और सुरक्षा की गारंटी ना दे और व्यक्ति को समय से न्याय ना मिल पाए तो मुझे लगता है कि उस विकास के उतने मायने नहीं रहते हैं। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर गोरखपुरवासियों को विकास कार्यों की बधाई दी। उन्होंने कहा कि 'नए उत्तर प्रदेश का नया गोरखपुर' विकास के सुपथ पर तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है। गोरखपुर वासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। 

इसे भी पढ़ें: कुशीनगर पहुंचे योगी, PM के आगमन को लेकर जांची तैयारियां, महापरिनिर्वाण मंदिर में पूजा करेंगे मोदी 

उन्होंने कहा कि गोरखपुर जिन कारणों से 'बदनाम' था, आज उनसे मुक्त हो चुका है। सबसे तेज विकास की प्रक्रिया के साथ आगे बढ़ते हुए गोरखपुर की पहचान एक महानगर के रूप में स्थापित हो रही है। विकास ही उज्ज्वल और मंगलमय भविष्य की गारंटी हो सकता है। उन्होंने कहा कि हर एक को न्याय मिले, हर व्यक्ति स्वयं को सुरक्षित महसूस करे, किसी भी लोक-कल्याणकारी सरकार का यही ध्येय होता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।