उत्तर भारत में शीत लहर जारी, ठंड का प्रकोप बढ़ा, कई क्षेत्रों में छाया घना कोहरा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 31, 2020   10:30
उत्तर भारत में शीत लहर जारी, ठंड का प्रकोप बढ़ा, कई क्षेत्रों में छाया घना कोहरा

शिमला का न्यूनतम तापमान 0.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राजस्थान के बीकानेर, जयपुर, कोटा और भरतपुर संभाग के कुछ स्थान बुधवार को भी शीतलहर की चपेट में रहे और कई स्थानों पर पाला पड़ने से जनजीवन प्रभावित हुआ।

नयी दिल्ली।  देश के उत्तरी राज्यों में बुधवार को शीत लहर जारी रही, जबकि जम्मू सहित कई क्षेत्रों में घना कोहरा छाया रहा, जहां दृश्यता कम होने के कारण नौ उड़ानें रद्द कर दी गईं। दिल्ली में न्यूनतम तापमान 3.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाने से ठंड का प्रकोप बढ़ गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक ठंडी हवाएं चलने से नववर्ष के शुरू होने से पहले राष्ट्रीय राजधानी में ठिठुरन बढ़ गयी है। सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 3.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि मंगलवार को न्यूनतम तापमान 3.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। अधिकतम तापमान 16.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जफरपुर और लोधी रोड स्थित मौसम विज्ञान केंद्र में न्यूनतम तापमान क्रमश: 3.5 डिग्री और 3.7 डिग्री सेल्सयिस दर्ज किया गया। रात के समय कोहरा बढ़ने से पालम क्षेत्र में दृश्यता घटकर 50 मीटर रह गयी। हालांकि, सुबह नौ बजे दृश्यता का स्तर बढ़कर 400 मीटर हो गया। मौसम विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि हिमालय की तरफ से उत्तर-उत्तरपश्चिमी दिशा की हवाएं बह रही हैं जिससे उत्तर भारत में तापमान में गिरावट आयी है। दिल्ली की वायु गुणवत्ता बुधवार को खराब श्रेणी में दर्ज की गई। शहर का 24 घंटे का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 290 रहा। लगातार दूसरे दिन घने कोहरे के कारण दृश्यता कम होने की वजह से जम्मू हवाईअड्डे पर बुधवार को नौ उड़ानें रद्द कर दी गईं।

हवाईअड्डे के निदेशक प्रभात रंजन बेउरिया ने कहा कि अब तक कोहरे की वजह से दृश्यता कम होने के चलते नौ उड़ानें रद्द की गई हैं। यह लगातार दूसरा दिन है जब जम्मू हवाईअड्डे पर कम दृश्ययता की वजह से उड़ान परिचालन प्रभावित हुआ है। मंगलवार को 17 उड़ानें रद्द की गई थीं और केवल एक ही उड़ान उतर पाई थी। बेउरिया ने पीटीआई-से कहा कि आज अपराह्न एक बजे दृश्यता केवल 600 मीटर थी, इसलिए उड़ान परिचालन सुचारू नहीं हो पाया। नौ उड़ानों के रद्द होने के अलावा पांच उड़ानों में विलंब हुआ। कश्मीर बुधवार को भीषण शीतलहर की चपेट में रहा और समूची घाटी में तापमान शून्य से नीचे दर्ज किया गया। अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार को हुई बर्फबारी से पहले छाए बादलों की वजह से लगातार दो रात से रात का तापमान जमाव बिन्दु के नजदीक था, लेकिन उत्तरी कश्मीर के गुलमर्ग में यह शून्य से 11 डिग्री नीचे पहुंच गया। उन्होंने कहा कि पर्यटक स्थल गुलमर्ग घाटी में सबसे ठंडा स्थान रहा। पहलगाम में तापमान शून्य से नौ डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया, जो पिछले 24 घंटे में छह डिग्री की गिरावट है। अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर में मंगलवार रात न्यूनतम तापमान शून्य से 2.2 डिग्री सेल्सियस कम रहा। वहीं, काजीगुंड में तापमान शून्य से 2.5 डिग्री सेल्सियस नीचे, कुपवाड़ा में शून्य से 2.8 डिग्री नीचे और कोकरनाग में तापमान शून्य से 6.5 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। कश्मीर इस समय ‘चिल्लई कलां’ के दौर में है, जिस दौरान 40 दिन तक भीषण सर्दी पड़ती है। इस दौरान तापमान शून्य से नीचे चला जाता है तथा डल झील सहित घाटी के कई इलाकों में जल आपूर्ति लाइन और जलाशय जम जाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में ठंड का प्रकोप बढ़ा, अगले दो दिनों तक और बढ़ेगी ठिठुरन

अधिकारियों ने कहा कि इस दौरान अधिकतम बर्फबारी होती है। ‘चिल्लई कलां’ 21 दिसंबर से शुरू हुआ था और यह 31 जनवरी तक चलेगा। उत्तर प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर घना कोहरा छाया रहा और राज्य के कुछ स्थानों पर शीतलहर की स्थिति बनी रही। लखनऊ मौसम कार्यालय ने कहा कि इलाहाबाद मंडल में दिन के तापमान में गिरावट आई है, जबकि राज्य के अन्य मंडलों में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है। मौसम कार्यालय के पूर्वानुमान में कहा गया कि राज्य में मौसम शुष्क रहने की संभावना है और पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राज्य के पूर्वी हिस्से में अलग-अगल जगहों पर घना कोहरा छा सकता है। मौसम कार्यालय ने कहा कि राज्य में अलग-अलग स्थानों पर शीतलहर जारी रहने की आशंका है। मौसम विभाग ने 3 जनवरी से 5 जनवरी तक हिमाचल प्रदेश में बारिश और बर्फबारी का अनुमान जताया है। शिमला मौसम केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा पिछले 24 घंटों में राज्य में मौसम शुष्क बना रहा। सिंह ने कहा कि केलांग, कल्पा, मनाली, डलहौजी और कुफरी में बुधवार को तापमान शून्य डिग्री से नीचे रहा। उन्होंने कहा कि आदिवासी जिला लाहौल-स्पीति का प्रशासनिक केंद्र केलांग शून्य से 12.7 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान के साथ राज्य का सबसे ठंड स्थान रहा। शिमला का न्यूनतम तापमान 0.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राजस्थान के बीकानेर, जयपुर, कोटा और भरतपुर संभाग के कुछ स्थान बुधवार को भी शीतलहर की चपेट में रहे और कई स्थानों पर पाला पड़ने से जनजीवन प्रभावित हुआ।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...